Breaking News
DreamHost

Marwahi By-Polls: भूपेश बघेल के लिए क्यों साख का सवाल बना मरवाही उपचुनाव? पढ़ें इनसाइड स्टोरी

Marwahi By-poll: मरवाही में 3 नवंबर को विधानसभा उपचुनाव के लिए मतदान होगा.

Marwahi Assembly By-election: छत्तीसगढ़ में मरवाही विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव को जीतने के लिए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) और कांग्रेस लगा रही पूरा जोर. जानें अमित जोगी (Amit Jogi) को उनकी परंपरागत सीट पर हराने के पीछे क्या है वजह.

रिपोर्ट – आदित्य राय

रायपुर. छ्त्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी (Ajit Jogi) के निधन से खाली हुई मरवाही विधानसभा सीट (Marwahi Assembly By-election) पर 3 नवंबर को चुनाव होगा. इस सीट को कांग्रेस ने अपनी साख का सवाल बना लिया है. मरवाही जीतने के लिए छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के 8 कैबिनेट मंत्री, 50 विधायक और संगठन के 100 आला नेता क्षेत्र में चुनाव की कमान संभाले हुए हैं. नुक्कड़ सभाएं हों या बूथ की जिम्मेदारी, कांग्रेस (Congress) ने अपने नेताओं को हर काम में लगा रखा है. इतना ही नहीं, आने वाले दिनों में प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल (CM Bhupesh Baghel) भी मरवाही का दौरा करने वाले हैं. आपको बता दें कि मरवाही विधानसभा सीट जोगी परिवार की परंपरागत सीट के रूप में जानी जाती रही है. पूर्व सीएम अजीत जोगी यहां से हर बार विधायक बनते रहे हैं. उनके निधन के बाद अमित जोगी (Amit Jogi) विधानसभा उपचुनाव में यहां से जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के उम्मीदवार हैं.

मरवाही में एक तरफ जहां कांग्रेस की तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं, तो वहीं दूसरी ओर अमित जोगी भी कमर कसे हुए हैं. इन दोनों पार्टियों के बीच चुनावी टक्कर जोरों पर है. अमित जोगी के ऊपर सरकार ने फर्जी जाति प्रमाणपत्र बनाने का आरोप लगाया है. इस आरोप की जांच कलेक्टर कर रहे हैं. अगर यह सच साबित होता है तो उनका नामांकन खारिज हो सकता है. वहीं इस मामले पर अमित जोगी का आरोप है कि चुनाव में उनका जीतना तय है. इसलिए मरवाही में कांग्रेस ने पूरी ताकत झोंक दी है. अमित जोगी ने कहा कि कांग्रेस के लोग गांव-गांव जाकर पैसा और शराब बांट रहे हैं. 50 विधायकों और 12 मंत्रियों को वहां बैठा दिया है. सरकारी अधिकारी कांग्रेस कार्यकर्ता की तरह काम कर रहे हैं. मेरी जीत तय देख मेरे जाति प्रमाणपत्र को फर्जी बताया जा रहा है.

अमित जोगी के आरोपों के जवाब में कांग्रेस ने भी पलटवार किया है. पार्टी के प्रवक्ता धनंजय सिंह ने कहा कि मरवाही विधानसभा सीट को लेकर चुनाव जीतने के लिए हर पार्टी रणनीति बनाती है. इसीलिए कांग्रेस ने इस विधानसभा क्षेत्र में अपने नेताओं को उतारा है. जहां तक अमित जोगी की बात है, तो उनका जाति प्रमाणपत्र फर्जी है, इसलिए वे मरवाही सुरक्षित सीट पर चुनाव नहीं लड़ सकते हैं. धनंजय सिंह ने यह आरोप भी लगाया कि जोगी परिवार ने हमेशा कांग्रेस में रहकर भाजपा की बी टीम की तरह काम किया है. जनता ऐसे लोगों को चुनाव में नकार देगी.मरवाही के पीछे बघेल की यह है मंशा

मरवाही विधानसभा सीट पर हो रहे उपचुनाव को मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने अपनी साख का विषय क्यों बनाया है, इसके पीछे कारण स्पष्ट है. दरअसल, अजित जोगी और उनके परिवार के प्रति सोनिया गांधी की हमेशा सहानभूति रही है. समय-समय पर उनके कांग्रेस में वापिस आने की अटकलें भी लगती रही हैं. अजित जोगी के निधन के बाद इन अटकलों को और बल मिला है. यही वजह है कि सीएम बघेल इस सीट को किसी भी तरह जीतकर इस संभावना को पूरी तरह खत्म करना चाहते हैं. इस सीट पर कब्जा कर बघेल कांग्रेस आलाकमान को संदेश देना चाहते हैं कि जोगी परिवार की बखत अब छ्त्तीसगढ में पहले जैसी नहीं रही. साथ ही कांग्रेस अब जोगी के गढ़ में ही जोगी को हराने का माद्दा रखती है.

इसके अलावा सीएम बघेल की एक और मंशा भी है. वे पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी के निधन के बाद जनता कांग्रेस छ्त्तीसगढ़ के प्रति लोगों के मन में जो सहानभूति जागी है, उसे भी पूरी तरह खत्म करना चाहते हैं. अगर इस सीट पर अमित जोगी सहानभूति के चलते जीत गए तो वे प्रदेश में कांग्रेस के लिए भाजपा से बड़ा खतरा बनकर उभर सकते हैं. इसका नुकसान भूपेश और कांग्रेस को 2023 के चुनाव में उठाना पड़ सकता है. यही कारण है कि मरवाही के उपचुनाव में कांग्रेस एड़ी-चोटी का जोर लगाए हुए है.

Latest News छत्तीसगढ़ News18 हिंदी

Free WhoisGuard with Every Domain Purchase at Namecheap

About rnewsworld

Check Also

सिरफिरे सिपाही की करतूत: डेढ़ साल की बच्ची को सिगरेट से जलाया, मां से की मारपीट, गिरफ्तार

पुलिस ने फरार आरोपी सिपाही को गिरफ्तार कर लिया. (सांकेतिक तस्वीर) पीड़ित महिला के अनुसार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bulletproof your Domain for $4.88 a year!