Breaking News

CG में सहायक आरक्षकों की बदलेगी जिंदगी: आरक्षकों की तरह वेतन और प्रमोशन मिलेगा, DGP ने सरकार को सौंपी रिपोर्ट; सड़क पर उतरा था परिवार

रायपुर15 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पिछले महीने सहायक आरक्षक के परिवारों ने सड़क पर उतरकर प्रदर्शन किया था।

छत्तीसगढ़ में सहायक आरक्षकों की पत्नियों को आखिर जीत मिल ही गई। अपने पतियों के प्रमोशन और वेतन विसंगतियों की मांग को लेकर एक महीने PHQ में इन्होंने प्रदर्शन भी किया था। उस दौरान पुलिस ने सहायक आरक्षकों की पत्नियों पर लाठीचार्ज भी किया था।

छत्तीसगढ़ के सहायक आरक्षकों को जल्द ही आरक्षकों की तरह वेतन और दूसरी सुविधाएं दी जाएंगी। इसे लेकर सरकार की तरफ से कहा गया है कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल छत्तीसगढ़ पुलिस के लिए काम करने वाले सहायक आरक्षकों को नए साल का तोहफा देने जा रहे हैं। विभागीय सूत्रों के मुताबिक जल्द ही प्रमोशन, वेतन और भत्ते को लेकर एक आदेश सरकार जारी करेगी।

छत्तीसगढ़ के गृहमंत्री ताम्रध्वज साहू ने पुलिस हेड क्वार्ट्स से इसे लेकर एक रिपोर्ट तैयार करने को कहा था। अब DGP अशोक जुनेजा ने ये रिपोर्ट राज्य सरकार को सौंप दी है। इस रिपोर्ट में सहायक आरक्षकों को काम-काज के दौरान आने वाली दिक्कतों, ड्यूटी शेड्यूल, काम के बदले में मिलने वाले रुपए, मेडिकल फैसिलिटीज से जुड़ी सिफारिशें हैं, इस पर फैसला लेकर सरकार सहायक आरक्षकों को नई सौगात देगी।

तीन-चार दिन चला था आंदोलन
दिसंबर के महीने में रायपुर की सड़कों पर 3 से 4 दिनों तक सहायक आरक्षकों के परिवार की महिलाओं ने इन्हीं मांगों को लेकर आंदोलन किया था। बीजापुर में तो सहायक आरक्षकों ने हथियार जमा कर आंदोलन में जाने का ऐलान कर दिया था। जैसे-तैसे पुलिस अफसरों ने मामले को संभाला था।

10 हजार रुपए और जान का जोखिम
आंदोलन से जुड़े नवीन राव ने बताया था कि सहायक आरक्षकों को 10 हजार रुपए वेतन के तौर पर मिलते हैं। इतने में परिवार को पाला जा सकता है क्या, इस महंगाई के दौर में। न भत्ता मिलता है, न पीएफ और ना ही मेडिकल की सुविधा मिलती है। एक पे स्लिप में अफसर सील लगाकर पैसे दे देते हैं। वहीं जब नक्सलियों को पता चलता है कि सहायक आरक्षक अपने गांव में है तो वह उनकी हत्या कर देते हैं।

नक्सलियों के इनपुट सहायक आरक्षक देते हैं
एक सहायक आरक्षक की पत्नी रेखा ने बताया कि यदि सरकार ने उनकी मांगे मानने का फैसला किया तो ये खुशी की बात है। हम चाहती हैं कि सहायक आरक्षक को आरक्षक के पद पर पदोन्नति करते हुए विभाग उन्हें नियमित नौकरी दी जाए, वेतनमान में सुधार हो, साप्ताहिक अवकाश दिया जाए और अनुकंपा नियुक्ति का नियम लागू हो। कई बार नक्सलियों के इनपुट सहायक आरक्षक देेते हैं। मगर प्रमोशन और अवॉर्ड पुलिस के दूसरे अफसरों को मिल जाता है। इस ओर भी ध्यान देना होगा।

सहायक आरक्षक की पत्नियों को पुलिस ने पीटा:पति के प्रमोशन, वेतन में सुधार के लिए PHQ पहुंची थीं, पुलिसवालों ने साड़ी फाड़ी, चूड़ी तोड़ी

खबरें और भी हैं…

छत्तीसगढ़ | दैनिक भास्कर

Check Also

महिला का नदी में मिला शव: मुस्लिम युवक से की थी लव मैरिज; पति बोला- 2 दिन पहले लापता हुई थी, पर पुलिस को नहीं बताया

​​​​​​​कोरबाएक घंटा पहले कॉपी लिंक नदी में मिला लापता महिला का शव। छत्तीसगढ़ के कोरबा …

लड़की प्रेगनेंट हुई तो बताया पहले से है शादीशुदा: मांग में सिंदूर भरकर 4 साल तक रहे लिवइन में, पता चला लड़का शादीशुदा है तो पहुंची थाने

भिलाई37 मिनट पहले कॉपी लिंक जामुल पुलिस स्टेशन दुर्ग में एक लड़के ने लड़की को …

छत्तीसगढ़ में अगले 2 दिन कोल्ड डे की चेतावनी: सामान्य से 6 डिग्री तक लुढ़का तापमान;सरगुजा,बिलासपुर और दुर्ग संभागों में कड़ाके की ठंड

रायपुर2 मिनट पहले कॉपी लिंक उत्तर से आ रही ठंडी हवाओं की वजह से छत्तीसगढ़ …

पैसे देने से मना किया तो मारा चाकू: बीच रास्ते में रोककर बदमाश शराब पीने मांग रहे थे रुपए, नहीं दिया तो पेट में घोंपा चाकू

बिलासपुर40 मिनट पहले कॉपी लिंक पुलिस ने चाकू से हमला करने वाले दोनों आरोपी को …

जशपुर में 15 साल की लड़की से रेप: युवक बोला-शादू करूंगा, घर से भगा ले गया, फिर किया दुष्कर्म; कोरबा से पकड़ा गया

जशपुर27 मिनट पहले कॉपी लिंक आरोपी लड़की को बहला फुसलाकर कोरबा भगा ले गया था। …

Leave a Reply

Your email address will not be published.