Monday, November 29, 2021
HomeStatesBiharहाथ में दूध का गिलास देकर शराबबंदी की शपथ: पटना में दिखा...

हाथ में दूध का गिलास देकर शराबबंदी की शपथ: पटना में दिखा युवाओं का अनोखा अंदाज, शराब छोड़ दूध पीने का करवाया वादा

पटनाएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

नशा मुक्ति दिवस पर सचिवालय के पास लगाया गया स्टॉल।

नशा मुक्ति दिवस पर सरकार ने राज्य में शराबबंदी को लेकर शपथ का आयोजन किया। सरकारी कार्यालयों में अफसर से लेकर कर्मचारी तक शपथ लेंगे कि शराब को हाथ नहीं लगाएंगे। ऐसे में पटना के एक युवा ने अनोखे अंदाज में शपथ दिलाने की मिसाल पेश की है। उसे हाथ में दूध का गिलास देकर लोगों को कसम दिलाया और कभी शराब को हाथ नहीं लगाने का वादा कराया।

सचिवालय के पास लगे इस स्टॉल पर दूध पीने के लिए लोगों की भीड़ लग गई और लगभग 500 लोगों ने हाथ में दूध लेकर शराब नहीं पीने की कसम खाई है। इस आयोजन को लेकर सामाजिक कार्यकर्ता विवेक विश्वास का कहना है, ‘शराब से उजड़ी सेहत को अब दूध जैसे अमृत से सुधारा जा सकता है।’

सरकार के शपथ ग्रहण से हुए प्रभावित

लावारिस लोगों और जानवरों के लिए काम करने वाले पटना के सामाजिक कार्यकर्ता विवेक विश्वास ने दैनिक भास्कर से बातचीत में बताया, ‘शराब ने बिहार के कई परिवारों को तोड़ा है। शराब से कैसे नुकसान है, इसका उदाहरण अभी हाल ही में राज्य में हुई मौत से लगाया जा सकता है।’

विवेक का कहना है कि शराब ने लोगों का पैसा, घर परिवार और सेहत के साथ सामाजिक स्तर को प्रभावित किया है। बिहार में शराबबंदी से कई परिवारों में खुशहाली आई है। लाखों ऐसी महिलाएं हैं, जो शराब के कारण हर दिन घर में गृह कलेश का शिकार होती थीं। अब शराबबंदी के बाद महिलाओं को नशा वाली पिटाई और प्रताड़ना से मुक्ति मिली है। विवेक का कहना है कि बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने 16 नवंबर को शराबबंदी कानून को और सख्ती से पालन कराने को कहा है। इसी क्रम में आज शुक्रवार को शपथ ग्रहण कराया जा रहा है। सीएम के इस अभियान से प्रभावित होकर उन्होंने भी अपने अंदाज में लोगों से शपथ दिलाया है।

हाथ में दूध का गिलास पकड़ाकर दिलाया शराबबंदी का शपथ

विवेक विश्वास का कहना है कि शराबबंदी में कोई भी व्यक्ति शराब को हाथ नहीं लगाए इसके लिए उन्होंने पटना के एक स्टाॅल लगाया था। राजीवनगर के रहने वाले विवेक विश्वास का कहना है कि स्टॉल पर दूध की पर्याप्त व्यवस्था की गई थी। विवेक का कहना है कि दूध को भी गंगाजल की तरह पवित्र माना जाता है। दूध हर व्यक्ति के लिए अमृत है। हर धर्म के लोग इसकी महत्ता को समझते हैं। ऐसे में लोगों को हाथ में दूध का गिलास देकर उन्हें अब शराब को कभी भी हाथ नहीं लगाने की शपथ दिलाई गई है। विवेक का कहना है कि 500 से अधिक लोगों को दूध पिलाकर शराब हाथ नहीं लगाने की कसम खिलाई गई है।

खबरें और भी हैं…

बिहार | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments