हमारे गांव के बच्चों को बचा लो सरकार!: गांवों में 10 दिन में 578 संक्रमित, गांवों में पढ़ाने जा रहे 2 टीचर भी पॉजिटिव

0
28

जोधपुर34 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महात्मा गांधी स्कूल लोहावट।

CMHO कह रहे- अभी गांव के बच्चों में कोरोना नहीं फैला, कोरोना संक्रमण फैलने के बावजूद गांवों में स्कूलें खुली रखने का निर्णय बच्चों पर भारी पड़ने की आशंका है। शहरी क्षेत्रों की स्कूलों में 12वीं तक के बच्चों की 30 जनवरी तक छुट्टी की गई, वहीं ग्रामीण क्षेत्र की स्कूलों में पढ़ाई जारी है। जबकि जिले के सभी 10 ग्रामीण ब्लॉक में कोरोना फैल चुका है। पिछले 10 दिनों में ही 578 संक्रमित मिल चुके हैं। मथानिया के राउमा स्कूल में अंग्रेजी की व्याख्याता व नांदड़ाकलां की राउमा स्कूल में एक शिक्षक पॉजिटिव आए हैं। मथानिया की स्कूल को तीन दिन बंद किया है। नांदड़ाकलां की स्कूल पर निर्णय संभवत: बुधवार को होगा। गांवों की स्कूलों में बच्चे ना मास्क पहन रहे, ना ही सोशल डिस्टेंस है। भास्कर टीम ने गांवों का दौरा किया तो स्कूलों में बच्चे बिना मास्क मिले। शहरी क्षेत्रों में 12वीं प्रैक्टिकल एग्जाम के लिए 17 जनवरी से निजी-सरकारी स्कूलें खुलेंगी।

नांदड़ा कलां की सरकारी स्कूल में पॉजिटिव मिलने वाला शिक्षक एक दिन पहले बच्चों को पढ़ा भी रहा था। तबीयत ठीक नहीं लगने पर उसने सोमवार को स्कूल में क्लास लेने के बाद टेस्ट करवाया, जिसकी रिपोर्ट मंगलवार को पॉजिटिव आई। बुधवार से स्कूल को बंद किया जा सकता है। वहीं मथानिया की राउमा स्कूल की अंग्रेजी की व्याख्याता ने भी रविवार को टेस्ट करवाया था। इससे पहले शनिवार को उन्हाेंने भी स्कूल में पढ़ाया था। सोमवार को उनकी रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर स्कूल को गुरुवार तक के लिए बंद कर दिया गया। इतना ही नहीं, जिले में 10-12 शिक्षकों के संक्रमित होने की भी सूचना है, लेकिन इसकी पुष्टि नहीं हो पाई है।

शिक्षक संघों ने पूछा- क्या गांवों में संक्रमण नहीं फैलने की गारंटी ले सकती है राज्य सरकार?
राजस्थान शिक्षक संघ राधाकृष्णन के मनीष आचार्य व इंद्रविक्रमसिंह चौहान और राजस्थान शिक्षक संघ प्रगतिशील के प्रदेश वरिष्ठ उपाध्यक्ष परसराम तिवाड़ी ने सरकार के निर्णय पर सवाल उठाए हैं। उनका कहना है कि क्या कोरोना का डर सिर्फ शहर में है…? इस बात की क्या गारंटी है कि कोरोना ग्रामीण क्षेत्र में नहीं फैलेगा? शहरों की तरह ग्रामीण क्षेत्र की स्कूलों में अवकाश किया जाए।

खतरा सर्दी का भी… 3 दिन से पारा 6 से 8o
राज्य सरकार हर साल सर्दियों की सीजन में न्यूनतम तापमान पांच से छह डिग्री आने पर सभी स्कूलों में अवकाश घोषित करती है। जिले में 9 जनवरी को न्यूनतम तापमान 8.8, 10 जनवरी के 6.4 और 11 जनवरी को 7.9o रहा। फिर भी निर्णय नहीं लिया जा रहा है।

सीएमएचओ का अजीब तर्क
ग्रामीण क्षेत्र में फिलहाल युवाओं में कोरोना के मामले सामने आए हैं, लेकिन स्कूली बच्चों में अभी तक ऐसी स्थिति नहीं आई है। वहीं कोरोना गाइडलाइन के बारे में शिक्षा विभाग को भी पता है। इसलिए बच्चों को सोशल डिस्टेंस से बैठाने के साथ मास्क का उपयोग भी किया जा रहा है।-डॉ. बलवंत मंडा, सीएमएचओ, जोधपुर

खबरें और भी हैं…

राजस्थान | दैनिक भास्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here