Sunday, December 5, 2021
HomeStatesPunjabसिद्धू का चन्नी पर वार भी प्यार भी: पहले सरकार पर नशा...

सिद्धू का चन्नी पर वार भी प्यार भी: पहले सरकार पर नशा व बेअदबी को लेकर बोला हमला, फिर CM को बताया बड़ा भाई

अमृतसरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

पीपीसीसी प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू ने शुक्रवार बेअदबी और नशे को लेकर सरकार को फिर घेरा, लेकिन उसके साथ ही सीएम चरणजीत सिंह चन्नी को अपना भाई भी कह दिया। उन्होंने कहा कि नशा व बेअदबी यही दो मुद्दे थे, जिसके चलते सीएम को बदला दिया। यह उनके मुख्य मुद्दे हैं और वह कभी इससे पीछे हटेंगे नहीं।

सिद्धू ने कहा कि नशे के मुद्दे पर हाईकोर्ट ने तीन बार निर्देश दिए हैं। हाईकोर्ट ने साफ कहा था कि नशा माफिया को राजनीतिक संरक्षण है और सिर्फ छोटी मछलियों पर कार्रवाई हो रही है। जब ट्रामाडोल की 12 लाख गोलियां पकड़ी गई तब भी हाईकोर्ट ने कहा था कि जानबूझकर राजनीतिक लोग ड्रग माफिया को संरक्षण देकर रखते हैं। एनडीपीएस की रिपोर्ट में भी कहा गया है कि ड्रग से संबंधित क्राइम में पंजाब देश में नंबर एक पर है। उस पर सबसे पहले ईडी ने नवंबर 2017 में हाईकोर्ट के निर्देश पर नशे की रिपोर्ट एसटीएफ को सुपुर्द की गई।

बोले- सीएम चन्नी पंजाब के लिए हर मुमकिन कोशिश में जुटे

फरवरी 2018 मे एसटीएफ की रिपोर्ट हाईकोर्ट में दायर की गई। दोनों बार हाई कोर्ट का निर्देश है कि कानून को मद्देनजर रखते हुए कार्रवाई की जाए। यह समझ नहीं आ रही कि हमें क्या दिक्कत है। किसका भय है और कौन रोक रहा है रिपोर्ट पेश करने को। कैप्टन पर निशाना साधते हुए सिद्धू ने कहा कि जो व्‍यक्ति चार हफ्ते में नशा खत्म करने का दावा करता था, अब पटियाला में अपना मेयर बचा रहा है। यहीं उन्होंने सीएम चन्नी को बड़ा भाई कहा और बताया कि वह पंजाब के लिए हर मुमकिन कोशिश में जुटे हैं।

ब्लैंकेट बेल टूटेगी नहीं, तब तक कैसे सच सामने आ पाएगा

सिद्धू ने कहा कि मुख्य आरोपी सुमेध सिंह सैनी को ब्लैंकेट बेल दिलवा दी गई है। बिना ब्लैंकट बेल को तुड़वाए इंसाफ कैसे दिलाया जा सकता है। लोग पूछ रहे हैं कि इसमें सरकार की क्या मंशा है। जब सैनी को ब्लैंकट बेल मिल गई तो सवाल उठाता है कि क्या सरकार ने एसएलपी डाली। ब्लैंकेट बेल मिले तीन महीने हो गए हैं, अगर इस दौरान सरकार ने एसएलपी डाली होती तो लगता कि सरकार इसको लेकर गंभीर है।

प्रधान की सुनवाई हो रही है

प्रधान की सुनवाई नहीं हो रही पर सिद्धू बोले कि बिजली और रेत वाला मामला उन्हीं के कहने पर सुना गया है। कई महीनों से वह बिजली के दाम कम करने और रेत का प्राइस फिक्स करने की बात कर रहे थे, लेकिन अब सीएम चन्नी के आने के बाद यह संभव हो पाया है। हमें अब लोगों के बीच जाना है और नई सरकार को बने भी 70 दिन हो गए है। उन्‍होंने ने पंजाब कांग्रेस के पूर्व प्रधान सुनील जाखड़ पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि जो पहले प्रधान अब ट्वीट डालने में व्यस्त हैं। उन्होंने तो कभी यह मामले नहीं उठाए।

किसानों के संघर्ष को राजनीति से दूर रखने की जरूरत

सिद्धू ने किसानों के संघर्ष को सामाजिक आंदोलन कहा। शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि दी। किसानों ने सरकार को झुका दिया। सिद्धू ने कहा कि इस आंदोलन को राजनीति से दूर रखना चाहिए। पगड़ी संभाल जट्‌टा आंदोलन के बाद इस संघर्ष को लोग हमेशा याद रखेंगे। सिद्धू ने कहा कि इसकी असली जीत कब होगी, जिस दिन यह सामाजिक आंदोलन किसानों की आर्थिक ताकत बनेगा।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments