Monday, November 29, 2021
HomeNationalसिंघु बॉर्डर पर बढ़ी हलचल: आंदोलन से जुड़े झंडे-बिल्ले की खरीद बढ़ी,...

सिंघु बॉर्डर पर बढ़ी हलचल: आंदोलन से जुड़े झंडे-बिल्ले की खरीद बढ़ी, जत्थों में पहुच रहे हैं किसान, लंगरों में भी भीड़

  • Hindi News
  • Local
  • Haryana
  • Sonipat
  • The Purchase Of Flags And Badges Associated With The Movement Increased, Farmers Are Reaching In Batches, Crowds In Langars

सोनीपत8 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सिंघु बॉर्डर पर पांच दिन बाद किसान आंदोलन को एक साल हो जाएगा। इस दौरान किसानों के जत्थे दिल्ली सीमा पर पहुंचने शुरू हो गए हैं। साथ में किसानों से जुड़े झंडों, जेब पर लगाने के बिल्ले, बैग आदि की डिमांड भी एकाएक बढ़ गई है। सालाना उत्सव की तैयारी जोरों पर है। 26 नवंबर को आंदोलन का एक साल पूरा होने पर खास पकवान बनाने की प्लानिंग भी लंगरों में चल रही है।

किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने पर दिल्ली सीमा पर 26 नवंबर को भीड़ जुटाने के प्रयासों में लगे पंजाब और हरियाणा के किसान नेताओं को कृषि कानून वापसी के पीएम के बयान से संजीवनी मिली है। जीत को पास देखकर किसानों के जत्थे अभी से पहुंचने शुरू हो गए हैं। किसानों के साथ नेताओ की सोच भी यही है कि एक बार फिर ताकत दिखाने की जरूरत है, ताकि केंद्र पर दबाव कुछ ओर बढ़े।

सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन से जुड़े झंडे-बिल्ले खरीदते किसान।

सिंघु बॉर्डर पर आंदोलन से जुड़े झंडे-बिल्ले खरीदते किसान।

आंदोलन के सामान के स्टालों पर भीड़

बॉर्डर पर आंदोलन स्थल में किसानों के लिए हर प्रकार का सामान उपलब्ध है। अब किसानों की बढ़ती भीड़ को देखते हुए यहां आंदोलन से जुड़े झंडो, बल्लों, किसान लिखे बैग, टी-शर्ट आदि के स्टालों की संख्या भी बढ़ गई है। जालंधर से आई सिमरजीत कौर ने कहा कि ये उनके लिए नया है। खुद कॉलेज में किसान आंदोलन का बिल्ला लगाकर जाएंगी।

चाय के साथ सूप बनेगा

26 नवंबर को हरियाणा के किसानों के लंगरों में जहां खीर, हलवा आदि बनाने पर जोर रहेगा, वहीं पंजाब के लंगरों में भी गाजर हलवा, जलेबी और कई अन्य प्रकार के पकवान बनाने की तैयारी है। चाय का लंगर चला रहे संतोष सिंह ने कहा कि 26 को स्पेशल सूप बनाया। कृषि कानून वापस होने की घोषणा वाले दिन भी सूप बना था।

लंगरों में भीड़, बढ़ी सप्लाई

सिंघु बॉर्डर पर अब किसानों के जत्थे लगातार पहुंच रहे हैं। कुछ समय पहले तक जो झौपड़ियां खाली थी, वे फिर से आबाद होने लगी हैं। खाना खाने वालों की बढ़ती संख्या को देख यहां सुबह शाम दूध की सप्लाई के साथ अन्य जरूरी सामान की सप्लाई भी बढ़ा दी गई है। लंगरों में 26 नवंबर की भीड़ को देखते हुए कई अन्य प्रकार की व्यवस्थाएं की जा रही हैं।

किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने के संदर्भ में पहुंचे जत्थे।

किसान आंदोलन के एक साल पूरा होने के संदर्भ में पहुंचे जत्थे।

साफ सफाई पर भी जोर

सिंघु बॉर्डर पर पूरे आंदोलन स्थल क्षेत्र की सफाई पर भी विशेष ध्यान दिया जा रहा है। रविवार को यहां सड़कों को पानी के साथ धोया गया। सफाई के लिए स्पेशल अभियान चलाया गया। इसके लिए टैंकरों से पानी लाया गया। महिलाओं के साथ पुरुषों ने भी सफाई अभियान में सहयोग किया। मंच को गुरु पर्व के मौके पर ही खास तरीके से सजाया जा चुका है।

खबरें और भी हैं…

देश | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments