साली की हत्या करने वाला 50 हजार का इनामी गिरफ्तार: वृंदावन में साधु बनकर भी रहा दीपक चौधरी, STF मेरठ ने की गिरफ्तारी, आगरा की युवती से शादी कर रह रहा था साथ में

0
24

मेरठएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

हत्यारा दीपक चौधरी

एसटीएफ मेरठ ने 50 हजार के इनामी दीपक चौधरी को शनिवार शाम मथुरा के वृंदावन से गिरफ्तार किया है। दीपक चौधरी पर 50 हजार का इनाम था। पिछले 3 साल से पुलिस व एसटीएफ आरोपी की तलाश कर रही थी।

एसटीएफ को पूछताछ में इनामी दीपक ने बताया की मेरे साली प्रति चौधरी से अवैध संबंध थे। कई बार पत्नी वे विरोध किया। लेकिन उसके बाद भी साली प्रति के साथ ही रहा। 2017 में प्रति ने साथ में रहने से मना कर दिया। इसी बात कहासनुी को लेकर पहले साली को थप्पड़ जड़े और उसके बाद चाकू से गोदकर हत्या कर दी।

यह है पूरा मामला
एसटीएफ मेरठ के एएसपी बृजेश सिंह ने बताया की 30 दिसंबर 2017 में मेरठ के पल्लवपुरम में प्रीति चौधरी (35 साल) की चाकू से गोदकर हत्या कर दी थी। हत्या में प्रीति के जीजा दीपक चौधरी पुत्र ओमप्रकाश निवासी क्ववीसलैंड कालोनी थाना पल्लवपुरम पर हत्या का मुकदमा दर्ज हुआ था। तभी से हत्या करने वाला दीपक फरार चल रहा था। जिस पर 50 हजार रुपये का इनाम घोषित था।

एसटीएफ को पता चला की हत्यारोपी दीपक मथुरा के वृंदावन में रह रहा है और अन्य साधुओं के साथ कथा करता था। मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ ने 15जनवरी की शाम को वृंदावन से गिरफ्तार कर लिया।

साली प्रीति से थे अवैध सम्बंध
एडिशनल एसपी बृजेश सिंह ने बताया की पूछताछ में पता चला है की दीपक की शादी 2003 में शामली निवासी मंजु से हुई थी। शादी के दो साल बाद मंजु ने एक बेटी को जन्म दिया। जहां मंजु की छोटी बहन प्रीति चौधरी भी अपनी बहन मंजु के घर मेरठ पल्लवपुरम में आई थी। इस दौरान दीपक चौधरी के अपनी साली से अवैध संबंध हो गए। एक साल बाद दीपक अपनी पत्नी को बिना बताए साली को लेकर पंजाब के लुधियाना में लेकर रहने लगा।

पत्नी और साली में हुई सहमति
2012 में पत्नी और साली को एक एक बेटा हुआ। जिसके बाद 2017 में दीपक की पत्नी मंजु और साली प्रीति में यह सहमति हुई की दोनों दीपक के साथ रहेंगी ओर अलग अलग मकान में रहना होगा। जिसके बाद दीपक की पत्नी मंजु मोदीनगर जिला गाजियाबाद में रहने लगी। जबकि प्रीति चौधरी मेरठ के क्ववींसलैंड कॉलोनी में रहने लगी। बाद में प्रीति का मन अपने जीजा दीपक चौधरी से हटने लगा। जिसके बाद दोनों में विवाद होने लगा।

चाकू से गोदकर की थी हत्या
30 दिसंबर 2017 की रात को दीपक चौधरी मेरठ में पल्लवपुरम में अपने साली के पास आया। उस दिन साली घर पर नहीं मिली। जिसके बाद दीपक को साली पर शक हुआ। आधी रात को प्रीति चौधरी घर पर आई। जिसके बाद दीपक ने अपनी साली प्रीति की चाकू से गोदकर हत्या कर दी। उसके बाद आरोपी दीपक रात में ही फरार हो गया।

आगरा की कीर्ति से भी की शादी
एसटीएफ ने बताया की मेरठ के फरार होने के बाद दीपक चौधरी प्रयागराज पहुंचा और एक वकील को पूरा मामला बताया। वकील ने बताया की सरेंडर कर दे, मैं जमानत करा दूंगा। लेकिन 20 लाख रुपये का खर्चा आएगा। जिसके बाद पैसा न होने पर दीपक मथुरा में पहुंचा। यहां एक साधु के साथ यमुना किनारे रहने लगा। चढ़ावे का 30 हजार रुपया एकत्र कर आगरा में व्यापारी के साथ काम शुरू कर दिया। व्यापारी ने धोखा दिया तो दीपक ने उसी ऑफिस में रिशेप्शन पर बैठने वाली कीर्ति से शादी कर ली। 2019 में कीर्ति ने भी एक बेटे को जन्म दिया।

जिसके बाद आरोपी कीर्ति से अपनी पत्नी और साली की हत्या की बात छिपाता रहा। और कीर्ति को बताता की मेरी पत्नी की एक्सीडेंट में मौत हो गई, पत्नी के मायके पक्ष ने हत्या का मुकदमा दर्ज करा दिया। प्रेस का फर्जी कार्ड बनवाकर आगरा व मथुरा में घूमता था। अपने घर पर बात करने के लिए हरिद्वार व दूसरे स्थान पर पहुंचकर मोबाइल मांगकर कॉल करता था जिससे पुलिस को संदेह न हो।

खबरें और भी हैं…

उत्तरप्रदेश | दैनिक भास्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here