सतर्क रहें: तीसरी लहर के शुरू में ही पहली के पीक से दाेगुने मरीज मिल रहे, पिछले 7 दिनाें में दूसरी के पीक जैसा संक्रमण

0
24

  • Hindi News
  • Local
  • Jharkhand
  • Dhanbad
  • At The Beginning Of The Third Wave, Twice As Many Patients Are Getting From The Peak Of The First, Infection Like The Peak Of The Second In The Last 7 Days.

धनबादएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक
  • धनबाद में तेजी से बढ़ता कोरोना संक्रमण बता रहा- इस बार जल्द ही आनेवाला है पीक
  • रिकवरी रेट पहली लहर में 98% से अधिक और दूसरी लहर में 97.2% थी

धनबाद में कोरोना की तीसरी लहर काफी तेज साबित हो रही है। जिले में कोरोना का पहला संक्रमित अप्रैल 2020 में मिला था। यह अगस्त में पीक पर पहुंचा था। पीक के 15 दिनों में औसतन रोजाना 82 लोग कोरोना से संक्रमित हो रहे थे और हर दो दिन पर एक की मौत हुई।

दूसरी लहर में पीक के 15 दिनाें में औसतन संक्रमण राेजाना 181 था, जबकि हर दिन 8 मौतें हो रही थीं। इन दाेनाें लहराें के मुकाबले तीसरी लहर में जनवरी के पहले सप्ताह के आंकड़े चौंकानेवाले हैं। इस माह की 1 से 7 तारीख तक ही औसतन राेजाना 140 से ज्यादा संक्रमित मिले हैं। इस हिसाब से 15 दिनाें में 2100 से ज्यादा संक्रमित मिलने की आशंका है। साथ ही, पहली लहर में पीक 5 महीने में और दूृसरी में 15 दिनाें के बाद पहुंचा था। वहीं, इस बार जनवरी में ही संक्रमिताें की संख्या दूसरी लहर की पीक जैसी है। इन सात दिनाें में दाे मरीजाें की माैत हुई है।

पहली लहर : 20 अगस्त 2020 काे मिले थे रिकाॅर्ड 309 संक्रमित

कोरोना की पहली लहर में अगस्त 2020 के 31 दिनों में 2193 लोग संक्रमित हुए थे। उस महीने की 16 से 30 तारीख तक 1228 लोग संक्रमित हुए थे और 7 की मौत हुई थी। इन 15 दिनाें काे ही पहली लहर का पीक माना गया। इसी दाैरान 20 अगस्त काे ही रिकाॅर्ड 309 लाेग संक्रमित मिले थे।

दूसरी लहर : 25 अप्रैल 2021 को रिकॉर्ड 326 संक्रमित एक दिन मिले

कोरोना की दूसरी लहर में पीक अप्रैल-मई 2021 के बीच आया। 20 अप्रैल से 04 मई के बीच 15 दिनों के दौरान 2738 लोग कोरोना से संक्रमित हुए, वहीं इस दाैरान 112 की मौत हुई थी। 25 अप्रैल को जिले में रिकॉर्ड 326 संक्रमित मिले थे। अप्रैल-मई में कुल 7794 लोग संक्रमित हुए थे।

तीसरी लहर : 5 जनवरी 2021 काे अब तक सबसे अधिक 223 मरीज मिले

वैसे ताे दिसंबर 2021 में ही धनबाद में काेराेना संक्रमिताें की संख्या बढ़ने लगी थी, लेकिन तीसरी लहर की स्थिति नए साल में बनी। इसके पहले 7 दिनों में ही 976 संक्रमित मिले हैं। इस दौरान दो लोगों की मौत की पुष्टि हुई है। इस दाैरान सबसे अधिक 223 संक्रमिताें की पहचान 5 जनवरी काे की गई थी।

इधर, राहत की बात यह कि 5-7 दिनाें में ही स्वस्थ हाे रहे संक्रमित, रिकवरी रेट 99% से भी ज्यादा

तीसरी लहर में मरीज काफी अधिक मिल रहे हैं, तो रिकवरी भी काफी अच्छी है। इस साल 7 जनवरी तक जिले में 976 संक्रमिताें की पहचान की गई, तो अस्पताल में इलाज के दाैरान 287 की काेविड रिपाेर्ट निगेटिव आने पर उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज भी किया गया। हालांकि, दाे संक्रमिताें ने इलाज के दाैरान दम ताेड़ दिया। आईडीएसपी की रिपाेर्ट के अनुसार, अभी जिले में एक्टिव केस 728 एक्टिव केस हैं। आईडीएसपी के नाेडल पदाधिकारी डाॅ आरके सिंह का कहना है कि बिना लक्षण वाले मरीजाें का पांच दिनाें और लक्षण वाले संक्रमिताें का सात दिनाें पर रिपीट टेस्ट कराया जा रहा है। जिनकी रिपाेर्ट निगेटिव आ रही है, उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज किया जा रहा है। इस तरह, फिलहाल जिले में स्वस्थ हाेनेवालाें की दर यानी रिकवरी रेट 99% से अधिक है। गाैरतलब है कि पहली लहर में रिकवरी रेट 98% से अधिक थी और दूसरी लहर में करीब 97.2% थी।

खबरें और भी हैं…

झारखंड | दैनिक भास्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here