Monday, November 29, 2021
HomeStatesJammu & Kashmirमुआवजा: जम्मू-कश्मीर में बारिश से बर्बाद फसल की राहत राशि डलेगी खातों...

मुआवजा: जम्मू-कश्मीर में बारिश से बर्बाद फसल की राहत राशि डलेगी खातों में, एक लाख किसान को राहत

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, जम्मू
Published by: विमल शर्मा
Updated Fri, 26 Nov 2021 12:29 PM IST

सार

प्रदेश में ओलावृष्टि में बर्बाद हुए धान की फसल का मुआवजा सीधे किसानों के खातों में डाला जाएगा। इसके लिए सभी किसानों के बैंक खातों की जानकारी जुटाई जा रही है। 
 

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

जम्मू-कश्मीर में बारिश और ओलावृष्टि से बर्बाद हुई धान की फसल की राहत राशि किसानों के सीधे खातों में डलेगा। इसके लिए किसानों के खातों की जानकारी जुटाई जा रही है। हालांकि पहले से ही प्रधानमंत्री कृषि योजना के तहत किसानों के खाते आधार से लिंक हैं और इनकी जानकारी राजस्व विभाग के पास है, जो इसमें शामिल नहीं हैं, इनकी जानकारी जुटाई जा रही है।

एक लाख से अधिक किसानों की फसल बारिश और ओलावृष्टि की भेंट चढ़ी है। जम्मू, सांबा, कठुआ में 80 हजार से ज्यादा किसान हैं, जिनको राहत मिलेगी। कठुआ के डीसी राहुल यादव का कहना है कि किसानों के सीधे खातों में ही राहत राशि जाएगी। अब तक 10 हजार के करीब किसानों को राहत राशि ट्रांसफर की गई है। इतने ही किसान बचे हुए हैं, जिनके खातों की जानकारी जुटाकर उनको राहत राशि दी जाएगी।

वहीं, जम्मू और सांबा जिलों में भी किसानों के खातों में ही पैसे जाएंगे। हालांकि किसानों का कहना है कि अभी तक उनको राहत राशि नहीं मिली है। सांबा में 22844 किसानों को राहत राशि मिलनी है। 
 

विस्तार

जम्मू-कश्मीर में बारिश और ओलावृष्टि से बर्बाद हुई धान की फसल की राहत राशि किसानों के सीधे खातों में डलेगा। इसके लिए किसानों के खातों की जानकारी जुटाई जा रही है। हालांकि पहले से ही प्रधानमंत्री कृषि योजना के तहत किसानों के खाते आधार से लिंक हैं और इनकी जानकारी राजस्व विभाग के पास है, जो इसमें शामिल नहीं हैं, इनकी जानकारी जुटाई जा रही है।

एक लाख से अधिक किसानों की फसल बारिश और ओलावृष्टि की भेंट चढ़ी है। जम्मू, सांबा, कठुआ में 80 हजार से ज्यादा किसान हैं, जिनको राहत मिलेगी। कठुआ के डीसी राहुल यादव का कहना है कि किसानों के सीधे खातों में ही राहत राशि जाएगी। अब तक 10 हजार के करीब किसानों को राहत राशि ट्रांसफर की गई है। इतने ही किसान बचे हुए हैं, जिनके खातों की जानकारी जुटाकर उनको राहत राशि दी जाएगी।

वहीं, जम्मू और सांबा जिलों में भी किसानों के खातों में ही पैसे जाएंगे। हालांकि किसानों का कहना है कि अभी तक उनको राहत राशि नहीं मिली है। सांबा में 22844 किसानों को राहत राशि मिलनी है। 

 

ऊंट के मुंह में जीरा, वह भी देरी से

किसानों की फसल बड़े स्तर पर खराब हुई है। लेकिन उनको सिर्फ प्राकृतिक आपदा के तहत ही राशि मिलनी है। इसमें भी देरी की जा रही है। यह ऊंट के मुंह में जीरे के सामान है। अभी कुछेक किसानों को ही मुआवजा मिला है। आधे से ज्यादा किसानों को नहीं मिला है। यदि अब तक पैसा मिल जाता तो वे गेहूं की बिजाई बिना परेशानी कर सकते हैं, क्योंकि किसानों की अगली फसल पिछली फसल की कमाई पर निर्भर करती है। 

– तेजिंदर सिंह, प्रधान, किसान संघ, जेएंडके

Latest And Breaking Hindi News Headlines, News In Hindi | अमर उजाला हिंदी न्यूज़ | – Amar Ujala

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments