Monday, November 29, 2021
HomeStatesChandigarhमंत्री की बहू को चेयरपर्सन बनाने पर विवाद: अकाली दल ने कहा-...

मंत्री की बहू को चेयरपर्सन बनाने पर विवाद: अकाली दल ने कहा- पंजाब सरकार में घर-घर नौकरी का मतलब हर कांग्रेसी के घर जॉब

  • Hindi News
  • Local
  • Chandigarh
  • Controversy Over Making Minister’s Daughter in law As Waqf Board Chairperson, SAD Said Ghar Ghar Naukari In Punjab Government Means In Every Job To Congressman’s House

चंडीगढ़एक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

जैनब अख्तर के वक्फ बोर्ड चेयरपर्सन बनने पर स्वागत करते सदस्य।

कैबिनेट मंत्री रजिया सुल्ताना और नवजोत सिद्धू के रणनीतिक सलाहकार मुहम्मद मुस्तफा की बहू को पंजाब वक्फ बोर्ड की चेयरपर्सन बनाने पर विवाद हो गया है। शिरोमणि अकाली दल (SAD) ने इसे कांग्रेस की भाई-भतीजावाद की परंपरा करार दिया। पंजाब सरकार की घर-घर नौकरी का मतलब यही बनकर रह गया है कि हर कांग्रेसी के घर में नौकरी हो।

शनिवार को ही मंत्री की बहू जैनब अख्तर को पंजाब वक्फ बोर्ड की चेयरपर्सन लगाया गया है। उन्होंने कुर्सी भी संभाल ली है। इसको लेकर सवाल उठ रहे थे कि कांग्रेसियों के परिवार पर सरकार खूब मेहरबान है। किसी कांग्रेसी वर्कर की बजाय अहम पदों पर मंत्रियों के रिश्तेदारों को नियुक्त किया जा रहा है।

अकाली दल ने साधा निशाना

अकाली दल ने साधा निशाना

पहले भी होता रहा विवाद

कांग्रेस नेताओं के घर नौकरी देने का विवाद पहले भी होता रहा है। इससे पहले डिप्टी सीएम सुखजिंदर रंधावा के दामाद तरुणवीर लहल को एडिशनल एडवोकेट जनरल लगाने पर विवाद हुआ था। विरोधियों ने निशाने भी साधे थे।

इसके अलावा कैप्टन अमरिंदर सिंह के CM रहते विधायक फतेहजंग बाजवा और राकेश पांडे के बेटों को नौकरी का मामला गर्माया था। जिसके बाद बाजवा ने बेटे की नौकरी ठुकरा दी थी। फिर कैप्टन सरकार में मंत्री गुरप्रीत कांगड़ के दामाद को भी नौकरी दी गई।

खबरें और भी हैं…

चंडीगढ़ | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments