Wednesday, December 8, 2021
HomeEntertainmentभास्कर इंटरव्यू: केके मेनन बोले- इरफान, मनोज और मैं, हम तीनों एक...

भास्कर इंटरव्यू: केके मेनन बोले- इरफान, मनोज और मैं, हम तीनों एक दूसरे की प्राइवेट ऑडिएंस रहें हैं

4 घंटे पहलेलेखक: अमित कर्ण

  • कॉपी लिंक

केके मेनन की गिनती असरदार एक्टर्स में होती रही है। हाल ही में उनके ‘स्‍पेशल ऑप्‍स’ से हिम्‍मत सिंह की स्‍पिन ऑफ रिलीज हुई है। उसमें हिम्‍मत सिंह की बैक स्‍टोरी है। यह वेब सीरीज अपने स्‍टायलाइज एक्‍शन और सस्‍पेंस के लिए फेमस रहा है। केके मेनन ने दैनिक भास्‍कर से इस खास बातचीत में खुद और इंडस्‍ट्री से जुड़ी रोचक तब्‍दीलियों से जुड़ी बातें शेयर की हैं। पेश हैं प्रमुख अंश:-

हिम्‍मत सिंह के कैरेक्‍टर क्र‍िएशन में आपने डायरेक्‍टर नीरज पांडे को क्‍या इनपुट दिए?
वो हमें कैरेक्‍टर के बारे में खोजबीन करने को कहते हैं। वो सेट पर हमें काफी फ्रीडम देते हैं, पर मैं कैरेक्‍टर की स्‍कि‍न में अलग तरह से जाता हूं। मैं इस प्रॉसेस को पीएचडी थीसीस की तरह नहीं लेता। वैसा करूं तो फिर किरदार में मैं ऑब्‍जेक्टिवि‍टी नहीं ला पाता। वह डिजाइंड एक्टिंग लगने लगती है। बेहतर यह होता है कि सेट पर परफॉर्मेंस के दौरान कुछ कुछ एनर्जी अंदर से ही आ जाए। वह किरदार को अद्भभुत बना देती हैं। मैंने लिखे हुए हिम्‍मत सिंह की आत्‍मा अपने भीतर ढूंढने की कोशिश की। एक्टिंग का रहस्‍य यही है। आप किसी किरदार को बाहरी दुनिया में नहीं ढूंढते। वह ऑलरेडी आपके भीतर है।

इसके पार्ट की शूटिंग पर कब जाएंगे?
जब नीरज कह दें कि उनकी कहानी तैयार है, हम चले जाएंगे।

OTT के चलते जो एक्‍चुअल एक्‍टर हैं, उन्‍होंने उनका ड्यू मिल रहा है?
इसका मुझे नहीं पता। ये धारणाएं चल तो रही हैं। OTT यकीनन थिएटरों के मुकाबले अलग है। लिहाजा यहां कंटेंट किंग होता है, क्‍योंकि यह कंटेंट को एक लेवल प्‍लेइंग फील्‍ड मुहैया कराता है। ऑडिएंस के हाथों में बटन होती है। मेकर्स और ऑडिएंस के बीच कोई डिस्‍ट्रीब्‍यूटर या एग्‍जीबिटर नहीं होता, जो कंटेंट को इनफ्लुएंस करे। थिएटरों में कंटेंट का कंज्‍म्‍पशन सामूहिक तौर पर होता है, जैसा हम किसी पार्टी में रिएक्‍ट करते हैं। हीरो ने स्‍लो मोशन में टर्न किया तो बाकी लोगों को देख आप भी सीटी मार ही देते हैं। ओटीटी में हर कोई अपने आप में बड़ा बुद्ध‍िजीवी होता है।

क्‍या OTT एक तरह का टेस्‍ट डेवलप कर रही है, जो कथित तौर पर मास फिल्‍मों के कल्‍चर को प्रभावित करे?
अगर कोई फिजिक्‍स का बहुत सीरियस स्‍कॉलर है तो क्‍या वह पार्टी में नहीं जाएगा? यही बात OTT और सिनेमाघरों के कंटेंट में हैं। दोनों मंच पीसफुली कोएग्जिस्‍ट करेंगे। कोई एक दूसरे पर हावी नहीं होगा। बतौर एक्‍टर तो हमारी बिरादरी सेम एक्टिंग करेगी। हां, राइटरों और डायरेक्‍टरों को पहले से ध्‍यान रखना होगा कि वो किस प्‍लेटफॉर्म के लिए कंटेंट बना रहें हैं।

आप, पंकज त्रिपाठी, दिव्‍येंदु शर्मा OTT के बड़े फेस हैं। मास फिल्‍मों में आप को कितने सोलो प्रोजेक्‍ट मिल रहे हैं?
इंडिया में मास फिल्‍मों के अपने मायने हैं न। थिएटरों में दर्शक पार्टी मूड में जाते हैं। वहां कोई चीज सेंसिबल नहीं होती, फिर भी आप एन्ज्‍वॉय कर लेते हो। जरूरी नहीं कि उस वक्‍त ठोस बातें हो रही हों। दरअसल बड़े पर्दे उन्‍हें देखकर अच्‍छा लगता है कि गाड़ियां उड़ रही हैं। एंटी ग्रैविटी चीजें हो रही हैं।

‘स्‍पेशल ऑप्‍स’ के बाद से केके मेनन को ऑफर्स की बरसात हो रही है या नहीं?
मेरे केस में बहुत ज्‍यादा बारिश हो तो प्रॉब्‍लम हो जाती है। हां, बूंदाबादी बस होती रहे। यह मैं हमेशा से करता रहा हूं। इस अप्रोच का फायदा है कि आप अपने हर प्रोजेक्‍ट को एन्‍ज्‍वॉय कर पाते हूं। उन पर कॉन्सनट्रेट भी कर पाते हूं।

इंडस्‍ट्री में कहा जाता रहा है कि अगर हमें एक और इरफान या मनोज बाजपेई की दरकार है तो उनके रिप्‍लेसमेंट केके मेनन हैं? आप क्‍या मानते हैं?
देखिए दोनों मेरे अजीज दोस्‍त थे। दोस्‍त हैं और रहेंगे। हम तो आपस में बातचीत कर हंस भी लेते थे कि लोगों को हम हमारे रूप में पसंद नहीं। एक दूसरे का रूप अख्‍त‍ियार कर लो। असल में ऐसा है नहीं। वो दोनों ब्रिलिएंट एक्‍टर हैं। हम सब की अपनी इंडिविजिुएलिटी है। अच्‍छा है कि टीम में तीन बल्‍लेबाज हों, हर कोई सेंचुरी लगा सके। हम आपसी मुलाकातों में कैजुअल रहते हैं। एकैडमिक होने की कोशिश नहीं करते।

इरफान और मनोज के साथ का कोई किस्‍सा याद आ रहा हो?
उन्‍होंने जब मीरा नायर की ‘द नेमसेक’ की थी और आगे चलकर तिग्मांशु की ‘पान सिंह तोमर’ तो दोनों मौकों पर मैंने उन्‍हें फोन कर उनकी तारीफ की। ‘पान सिंह तोमर’ में तो मैंने उनसे कहा कि कुछ मैजिक ही कर दिया उन्‍होंने तो। उन्‍होंने हालांकि कहा कि उस फिल्‍म को रिलीज करने के लिए उन्‍हें काफी पापड़ बेलने पड़े। मनोज को हाल में ‘द फैमिली मैन’ करने के बाद बधाई दी थी। या उससे पहले भी उन्‍हें बधाई देते रहें हैं। हम तीनों एक दूसरे के लिए प्राइवेट ऑडिएंस रहें हैं।

खबरें और भी हैं…

बॉलीवुड | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments