Monday, November 29, 2021
HomeStatesUttar Pradeshबेटियों ने आयोग सदस्य से मांगा न्याय: वीडियो दिखा बोली- पिता की...

बेटियों ने आयोग सदस्य से मांगा न्याय: वीडियो दिखा बोली- पिता की हत्या में 4 आरोपी, पैसों के लालच में एक कबूल रहा है जुर्म

13 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

महिला जनसुनवाई में पिता की हत्या में कार्रवाई न होने पर बेटियां महिला आयोग की सदस्य को जानकारी देते हुए।

झांसी के सर्किट हाउस में सोमवार को महिला आयोग की सदस्य डॉ. कंचन जायसवाल ने जनसुनसवाई की। 4 घंटे चली जनसुनवाई में 15 महिलाएं शिकायत लेकर पहुंची। समाधान के लिए संबंधित विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए गए। सबसे ज्यादा शिकायतें घरेलु हिंसा की थी।
जनसुनवाई के दौरान सिलगुंवा गांव निवासी प्रतिभा सिंह, उसका बहन विजेता व उनकी मां उमा सिंह पहुंची। दोनों बहनों ने कहा कि उनके पिता भगवान सिंह की हत्या हुई थी। 17 अगस्त को बृजेंद्र सिंह, योगेंद्र सिंह, जोगेंद्र सिंह और सतीश के खिलाफ हत्या का केस कराया था। अब तक कोई गिरफ्तारी नहीं हुई। सोमवार को एसएसपी से मिले तो उन्होंने कहा कि सतीश को गिरफ्तार कर रहे हैं।
ऑडियो में 10 हजार महीने देने की बात
बहनों ने कहा कि एक आरोपी पैसों के लालच में जुर्म कबूल रहा है। सदस्य को सतीश का एक वीडियो व ऑडियो सुनाकर कहा कि ये सतीश है। जो करीब 15 दिन पहले घर आया था। तब उसने बताया कि एक आरोपी का बेटा 10 हजार रुपए महीना देने का लालच लेकर जुर्म कबूल करने की बात कह रहा है।
सदस्य ने एसओ को फोन कर कहा- निर्दोष को मत फंसाना
बेटियों की बात सुन सदस्य ने सकरार थाना एसओ से फोन पर बात की। कहा कि जिस व्यक्ति को गिरफ्तार किया जा रहा है, उसकी रिकॉर्डिंग मृतक की बेटियों के पास है। एक बात स्पष्ट रूप से सुन लीजिए कि निर्दोष को सजा न मिल पाए और दोषी को बख्शना नहीं है। ऐसा न हो कि निर्दोष को फंसा दे और दोषी घूमते रहे। इनको आपके पास भेज रहे हैं। निष्पक्ष तरीके से जांच करें।
कोर्ट के आदेश भी नहीं मान रहा है एसआई
समथर की एक महिला अपने पिता के साथ पहुंची। बताया कि 7 साल पहले उसकी मथुरा में बांके बिहारी मंदिर के पदाधिकारी से शादी हुई थी। प्रताड़ना करने पर उसने पति, सास-ससुर समेत 5 लोगों के खिलाफ समथर थाना में केस कराया था। आईओ एसआई ने कोर्ट के आदेश भी नहीं माने। सिर्फ पति के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल किया, जबकि बाकी को दोषमुक्त कर दिया। एसआई ने दबाव व लालच ने ये सबकुछ किया है। आयोग सदस्य ने केस की दोबारा से जांच करने के आदेश दिए।
महिला को ससुर के साथ ससुराल भेजा
बड़ागांव निवासी एक महिला की नौगांव में शादी हुई है। उसका घरेलु हिंसा का केस कई माह लंबित था। पति सिविल इंजीनियर है। जनसुनवाई में ससुर भी मौजूद थे। महिला एवं बाल विकास के अधिकारियों ने कहा कि काउंसिलिंग के लिए दोनों पक्षों को कई बार बुलाया गया। ससुराल पक्ष के लोग बहू को ले जाने के लिए बार-बार तारीख बढ़ा रहे हैं। आयोग के आदेश पर ससुर बहू को ले जाने के लिए राजी हो गए।
अधिकारियों के नहीं आने पर फोन करके बुलवाया
महिला जनसुनवाई में आयोग सदस्य पहुंची तो संबंधित विभागों के अधिकारी नहीं पहुंचे थे। इस पर उन्होंने नाराजगी जाहिर की और फोन करके अफसरों को बुलाया। उन्होंने एसएसपी को खुद फोन किया। तब एसपी सिटी जनसुनवाई में पहुंचे। थोड़ी देर में सभी विभागों से अधिकारी मौके पर पहुंच गए।

खबरें और भी हैं…

उत्तरप्रदेश | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments