Monday, November 29, 2021
HomeStatesChhattisgarhबिलासपुर का वार्ड-29... दांव पर साख: कांग्रेस नेता के निधन से खाली...

बिलासपुर का वार्ड-29… दांव पर साख: कांग्रेस नेता के निधन से खाली हुई थी सीट; अब BJP सहित उसे भी जिताऊ उम्मीदवार की तलाश

  • Hindi News
  • Local
  • Chhattisgarh
  • Bilaspur
  • Administration Also Started Preparations, By election Is To Be Held In A Ward Of Municipal Corporation, Collector’s Decree To Follow Code Of Conduct

बिलासपुर27 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

जिला निर्वाचन कार्यालय में चुनाव तैयारी को लेकर बैठक लेते अफसर।

राज्य निर्वाचन आयोग ने नगरीय निकाय चुनाव के साथ उप चुनाव का एलान कर दिया है। बिलासपुर नगर निगम में कांग्रेस नेता व पार्षद शेख गफ्फार के निधन से दो साल पहले खाली हुई सीट वार्ड क्रमांक 29 संजय गांधी नगर में भी चुनाव होना है। ऐसे में कांग्रेस-भाजपा की राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है। वहीं, जिला प्रशासन ने भी चुनाव के लिए जरूरी तैयारियां शुरू कर दी है। इस वार्ड में आचार संहिता भी लागू हो गई है।

नगर निगम के 70 वार्डों के लिए साल 2019 में चुनाव हुआ था। जिसमें वार्ड क्रमांक 29 संजय गांधी नगर से कांग्रेस के वरिष्ठ नेता व बीडीए के पूर्व अध्यक्ष शेख गफ्फार पार्षद पद के प्रत्याशी थे। उनके खिलाफ भाजपा ने राजेश रजक को प्रत्याशी बनाया था। तारबाहर क्षेत्र स्थित यह वार्ड शुरू से ही कांग्रेस का गढ़ रहा है। चुनाव के नतीजे आए। इससे पहले ही शेख गफ्फार को हार्ट अटैक आ गया और अपोलो अस्पताल में इलाज के दौरान उनका निधन हो गया। चुनाव में दिवंगत कांग्रेस नेता गफ्फार की जीत हुई। लेकिन, उनके निधन के बाद से वार्ड खाली रहा।

वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व बीडीए अध्यक्षक स्व. शेख गफ्फार के निधन के बाद वार्ड खाली रहा

वरिष्ठ कांग्रेस नेता व पूर्व बीडीए अध्यक्षक स्व. शेख गफ्फार के निधन के बाद वार्ड खाली रहा

भाजपा का आरोप, जनप्रतिनिधि के अभाव में उपेक्षित रहा वार्ड
उप चुनाव की घोषणा के बाद से भाजपा-कांग्रेस दोनों दलों के नेताओं ने पार्षद के दावेदारों की तलाश शुरू कर दी है। भाजपा नेताओं का कहना है कि इस वार्ड में दो साल तक इस वार्ड को जनप्रतिनिधि विहीन रखा गया है। इसके चलते वार्ड वासियों को लगातार समस्याओं का सामना करना पड़ रहा था और उपेक्षित रहा। पूर्व महापौर व भाजपा नेता किशोर राय का कहना है कि राज्य सरकार व नगर निगम की उपेक्षा को लेकर हम वार्ड के मतदाताओं के बीच जाएंगे। टिकट के लिए मंडल समिति नामों का पैनल तैयार करेगी, जिस पर चयन समिति निर्णय लेगी।

कांग्रेस की जीत तय है: विजय पांडेय
संजय गांधी नगर में स्व. शेख गफ्फार लगातार सक्रिय रहे और वार्ड के विकास के लिए सतत प्रयत्नशील रहते थे। उनके इस वार्ड में कांग्रेस की जीत तय है। वर्तमान में महंगाई सबसे बड़ा मुद्दा है। नगर निगम में हो रहे विकास कार्य को लेकर हम जनता के बीच जाएंगे। उन्होंने कहा कि पार्षद पद के लिए योग्यता के आधार पर प्रत्याशी चयन किया जाएगा और जीत के दावेदार को ही टिकट दिया जाएगा।

वार्ड में हैं 7107 मतदाता
इस वार्ड में 7107 मतदाता हैं , जो पार्षद के लिए मतदान करेंगे। इसमें 3538 पुरुष मतदाता हैं, जबकि 3567 महिला मतदाता हैं। मतदान के लिए इस वार्ड में 8 केंद्र बनाए गए हैं, जहां वोटर जाकर मतदान कर सकेंगे। आदर्श आचरण संहिता के दौरान जिले के नगरीय निकाय वार्ड क्रमांक 29 संजय गांधी नगर में विभिन्न स्थानों पर होर्डिंग्स लगाने के लिए राजनैतिक दलों एवं उम्मीदवार की ओर से प्रस्तुत आवेदन पर नियमानुसार अनुमति देने के लिए SDM पुलक भट्‌टाचार्य को अधिकृत किया गया है।

वार्ड में धारा 144 लागू
जिला निर्वाचन अधिकारी कलेक्टर डॉ. सारांश मित्तर ने संजय गांधी नगर वार्ड सीमा क्षेत्र के अंदर कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार के घातक अस्त्र-शस्त्र यथा बन्दूक, रायफल, भाला, बल्लम, बरछा, लाठी एवं अन्य प्रकार के घातक हथियार तथा विस्फोटक सामग्री लेकर किसी भी सार्वजनिक स्थान, आम सड़क, रास्ता, सार्वजनिक सभाओं एवं अन्य स्थानों पर नहीं चलेगा। कोई भी राजनैतिक दल या अभ्यर्थी सशस्त्र जुलूस नहीं निकालेगा और न ही आपत्तिजनक पोस्टर वितरित करेगा। आदेश का उल्लंघन करने वालों पर धारा 188 के अंतर्गत कार्रवाई की जाएगी। यह आदेश तत्काल प्रभाव से लागू कर दिया गया है। चुनाव आचार संहिता लागू होने के बाद वार्ड में ध्वनि विस्तारक यंत्रों के प्रयोग पर भी शर्तें तय की गई है। ध्वनि विस्तारक यंत्रों का प्रयोग न केवल स्थायी मंच से होता है वरन् वाहनों यथा जीप, कार, ट्रक, टेम्पो, तीन पहियां वाहनों, स्कूटर, सायकल, रिक्शा आदि पर घूम-घूम कर या स्थिर रखकर भी होता है। वार्ड में सुबह 6 से रात 10 बजे तक ही ध्वनि विस्तारक यंत्रों के उपयोग की अनुमति रहेगी।

अधिकारी-कर्मचारियों के अवकाश पर लगाया प्रतिबंध
उपचुनाव के लिए आदर्श आचरण संहिता प्रभावशील होने के सााथ ही कलेक्टर डॉ. मित्तर ने जिला मुख्यालय के शासकीय, अर्द्धशासकीय कार्यालयों तथा राज्य शासन के उपक्रमों के अधिकारियों, कर्मचारियों के अवकाश पर प्रतिबंध लगा दिया है। उन्हें बिना कलेक्टर एवं जिला निर्वाचन अधिकारी की अनुमति के अवकाश पर नहीं जाने का फरमान जारी किया गया है। बिना अनुमति के मुख्यालय छोड़ने पर भी अनुशासनात्मक कार्रवाई करने की चेतावनी दी गई है।

खबरें और भी हैं…

छत्तीसगढ़ | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments