Monday, November 29, 2021
HomeStatesHaryanaबसताडा लाठीचार्ज मामला: घरौंडा SDM पूजा भारती आज हिंदी व अंग्रेजी भाषा...

बसताडा लाठीचार्ज मामला: घरौंडा SDM पूजा भारती आज हिंदी व अंग्रेजी भाषा में बयान लिखकर कोर्ट में होंगी पेश, घायल किसान भी आएंगे

करनाल28 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

रि. जज सोमनाथ अग्रवाल।

करनाल के बसताड़ा टोल लाठीचार्ज मामले की जांच कर रहे जस्टिस (रि.) एसएन अग्रवाल आयोग की करनाल के पीडब्ल्यूडी रेस्ट हाउस में कोर्ट कोर्ट लगाएंगे। इस पूरे सप्ताह कोर्ट लगेगी। करनाल मेें बसताड़ा टोल पर लाठीचार्ज में 28 घायल होने वाले किसानों में से 5 किसान बुलाए गए हैं। इसके अलावा घरौंडा SDM पूजा भारती अपने ब्यान को हिंदी व अंग्रेजी भाषा में लिखकर पेश होंगी। कोर्ट की सुनवाई में अभी तक 47 की गवाही हो चुकी है।

मुख्यालय पंचकूला तो करनाल में कोर्ट

हरियाणा सरकार ने 25 सितंबर को आयोग को जांच रिपोर्ट सौंपने के लिए एक माह का समय दिया था। परंतु सरकार ने आयोग की सेवा-शर्त 11 अक्टूबर को तय की। इसलिए जांच 12 अक्टूबर से शुरू हो पाई, सरकार 24 अक्टूबर तक एक माह मान रही है। आयोग ने तीन महीने के समय को बढ़ाने की मांग की थी। सरकार ने दो महीने से समय बढ़ाया है। अब 24 दिसंबर तक जांच पूरी करनी होगी। सरकार ने एचसीएस विवेक कालिया को आयोग सचिव लगाया। आयोग का मुख्यालय पंचकूला तो कोर्ट करनाल में बनाई गई है।

एसडीएम ने दिए थे सिर फोड़ने के आदेश…

IAS आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें वो यह कह रहे हैं कि बैरिकेड के आगे कोई किसान जाए तो उसका सिर फोड़ देना। वीडियो में आयुष सिन्हा पुलिसवालों से कह रहे हैं कि कोई यहां से निकलने की कोशिश करे तो लठ उठा के मारना बस। उन्होंने कहा था कि वह स्पष्ट ऑर्डर दे रहे हैं, उसका सिर फोड़ देना। कोई डाउट नहीं है, किसी डायरेक्शन की जरूरत नहीं है। ये नाका किसी हालत में तोड़ने नहीं देंगे। पीछे और फोर्स लगी है। यहां आपको लगा रखा है शुरू में। हेलमेट पहन लो। यहां से एक बंदा भी नहीं जाना चाहिए और अगर गया तो सिर फूटा होना चाहिए उसका।

क्या था पूरा मामला

28 अगस्त को करनाल में सीएम मनोहर लाल की अध्यक्षता में भाजपा की समीक्षा बैठक थी। इस दौरान बसताडा टोल पर बैठे किसानों ने प्रदेशाध्यक्ष ओपी धनखड को काले झंडे दिखाकर विरोध किया। कुछ समय के बाद किसान भाजपा की बैठक का विरोध जताने के लिए शहर के तरफ बढ़ने लगे। इस दौरान पुलिस के साथ तकरार हो गया। पुलिस ने किसानों पर लाठीचार्ज शुरू कर दिया। अगले दिन 29 को एक किसान रायपुर जाटान निवासी सुशील काजल की मौत हो गई। किसानों ने सुशील की मौत का कारण लाठीचार्ज की चोटों को बताया। घरौंडा की अनाज मंडी में महापंचायत का आयोजन कर निर्णय लिया कि वे 7 सितंबर से सचिवालय का घेराव करेंगे। 11 सितंबर को एसीएस के नेतृत्व में किसानों की बातचीत पर समझौता हुआ। मृतक के परिवार से दो सदस्याें को नाैकरी दी जाएगी। मामले की जांच रिटायर्ड जज से होगी। 22 सितंबर को दो नौकरी सुशील काजल के बेटे व पुत्रवधू को दी जा चुकी है। 25 सितंबर को रिटायर्ड जज सोमनाथ अग्रवाल की अध्यक्षता आयोग का गठन किया गया।

खबरें और भी हैं…

हरियाणा | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments