Monday, November 29, 2021
HomeStatesPunjabबटाला से उठाकर लाया हैंडग्रेनेड: पंजाब पुलिस के सामने रणजीत का खुलासा,...

बटाला से उठाकर लाया हैंडग्रेनेड: पंजाब पुलिस के सामने रणजीत का खुलासा, ब्लास्ट कहां करना था? यह विदेश से बताया जाना था

  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Amritsar
  • Ranjit, Who Was Caught By The SSOC, Disclosed, The Information About Where The Blast Was To Be Done Was Yet To Come From Abroad

अमृतसरएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

ssoc की तरफ से हैंड ग्रेनेड्स के साथ पकड़ा गया रणजीत सिंह।

अमृतसर-तरनतारन बाईपास पर बुधवार को स्पेशल ऑपरेशन सेल (SSOC) की तरफ से पकड़े गए रणजीत सिंह से पंजाब और सेंटर की एजेंसियों ने भी पूछताछ शुरू कर दी है, लेकिन अभी तक कोई खास जानकारी रणजीत सिंह नहीं दे पा रहा है। आरोपी रणजीत ने अभी तक यही जानकारी दी है कि उसे हैंड ग्रेनेड उठाने के लिए आदेश इंग्लैंड से आया था। लेकिन इसका प्रयोग कहां करना था, इसकी सूचना अभी उसे आनी थी कि उससे पहले ही वह पकड़ा गया।

रणजीत ने जानकारी दी है कि वह इस खेप को बटाला से उठाकर लाया था। फिलहाल वह उसे अपने गांव ही लेकर जा रहा था। अब पुलिस विदेशी नंबर, जिसके साथ रणजीत संपर्क में था, का रिकार्ड खंगाल रही है। खेप पंजाब में कैसे पहुंची, यह एक चुनौती बन गई है। क्योंकि रणजीत को भी इसकी जानकारी नहीं है।

ISI मॉड्यूल पर आतंकी घटनाओं को दिया जा रहा अंजाम

विदेश में बैठे आतंकी अब ISI मॉड्यूल पर आतंकी घटनाओं को अंजाम दे रहे हैं। जिसमें वे स्लीपर सेल तो बनाते हैं, लेकिन एक दूसरे के साथ उनका कोई संपर्क नहीं होता। पठानकोट घटना और फिर अमृतसर में रणजीत सिंह के पकड़े जाने के बाद पुलिस भी चौकस हो चुकी है।

खेप रखने वाला लोकेशन डालता है और फिर भेजी जाती है उठाने वाले को

विदेश में बैठे आतंकी पंजाब में माहौल खराब करने के लिए अब ISI का दिमाग अपना रहे हैं। इसमें एक स्लीपर सेल खेप रखने के बाद अपनी लोकेशन विदेश में बैठे हैंडलर को भेज देता है। यही लोकेशन विदेश में बैठा हैंडलर भारत में दूसरे स्लीपर सेल को भेजता है। यही कारण है कि एक स्लीपर सेल को कभी भी अपने दूसरे स्लीपर सैल की जानकारी नहीं होती।

पंजाब में स्लीपर सेल्स के पास 20 बम होने की आशंका

यूं तो खूफिया एजेंसियों की सूचना के अनुसार पंजाब में इस समय 20 के करीब बम विभिन्न हैंडलर व स्लीपर सेल्स के पास पहुंच चुके हैं। वहीं दूसरी तरफ पठानकोट व नवाशहर में आतंकी घटना को अंजाम देने वाले के पास भी अभी एक बम है। ऐसे में पुलिस के पास अलर्ट रहने और अपने सूत्रों को मजबूत करने के अलावा कोई चारा नहीं बचा है।

एक ही खेप का हिस्सा हैं बम

जानकारी के अनुसार 86-P हैंडग्रेनेड, जिनका प्रयोग पठानकोट और नवाशहर में दहशत फैलाने के लिए किया गया और रणजीत के पास से मिले हैंड ग्रेनेड एक ही खेप का हिस्सा हैं। यह खेप पंजाब में कैसे पहुंची, एक बड़ी चुनौती बन गया है। पुलिस के अनुसार या इसे ड्रोन के माध्यम से भेजा गया है या इसे जम्मू-कश्मीर से यहां सप्लाई किया गया है।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments