Monday, November 29, 2021
HomeStatesUttar Pradeshप्रधानमंत्री ने देखा यूपी पुलिस का माफियाओं पर शिकंजा: उत्तर प्रदेश पुलिस...

प्रधानमंत्री ने देखा यूपी पुलिस का माफियाओं पर शिकंजा: उत्तर प्रदेश पुलिस की तरफ से डीजी कॉन्फ्रेंस में एडीजी कानून व्यवस्था ने दिया प्रजेंटेशन, देश की आंतरिक सुरक्षा रहा बड़ा मुद्दा

लखनऊ4 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

56वें अखिल भारतीय डीजी कॉन्फ्रेंस के दूसरे दिन सभी प्रदेश के डीजीपी और केंद्रीय सुरक्षा एजेंसियों के चीफ ने कानून व्यवस्था और अपराध नियंत्रण में किए गए उल्लेखनीय कामों का प्रजेंटेशन दिया। यूपी पुलिस की तरफ से यह प्रजेंटेशन एडीजी कानून व्यवस्था प्रशांत कुमार ने दिया।

यूपी पुलिस की तरफ से दिए गए प्रजेंटेशन में माफिया राज को खतम करने की दिशा में की गई कार्रवाइयां सबसे अहम रही। प्रदेश के बड़े माफियाओं और बाहुबलियों के खिलाफ दर्ज किए गए मुकदमें, जब्त की गई उनकी संपत्तियां, सीज किये गए बैंक खाते, गिरफ्तारियां और उनकी प्रॉपर्टी पर चले बुल्डोजर समेत अन्य कार्रवाइयों का प्रधानमंत्री के सामने प्रस्तुतिकरण किया गया। इसके अलावा अवैध धर्मांतरण में एटीएस की तरफ से हुई कार्रवाइयां, आतंकी संगठनों से जुड़े आरोपियों की गिरफ्तारी और आर्थिक अपराध के बड़े मामलों में EOW की तरफ से उठाए गए ठोस कदमों को प्रजेंटेशन में शामिल किया गया। बाराबंकी के चैनपुरवा गांव में अवैध शराब के कारोबार में लिप्त लोगों को किस तरह कम्युनिटी पुलिसिंग के जरिए इस दलदल से बाहर निकालकर रोजगार से जोड़ा गया यह भी प्रजेंटेशन का हिस्सा रहा।

आंतरिक अस्थिरता पैदा कर रहे सीमा पार के दुश्मन

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के सामने देश के शीर्ष पुलिस अधिकारियों ने आंतरिक सुरक्षा की बढ़ती चुनौतियों से निपटने के लिए गहन विचार-विमर्श किया। उन्होंने कहा कि आंतरिक सुरक्षा की चुनौती अब केवल कानून-व्यवस्था की चुनौती नहीं, बल्कि फोर्थ जेनरेशन वारफेयर का हिस्सा बन चुकी है। दुश्मन सीमा पर आमने-सामने आने के बजाए देश के भीतर अस्थिरता पैदा करने का षड्यंत्र रच रहे हैं। राज्यों में आपसी टकराव व भेदभाव को सामान्य रूप से कानून-व्यवस्था के तौर पर देखने की बजाय उसे बड़ा षड्यंत्र के रूप में देखते हुए तत्काल कार्रवाई की जाए।

प्रधानमंत्री ने सुरक्षा के मुद्दों पर दिए अहम सुझाव

राजधानी में प्रधानमंत्री शनिवार को पूरे दिन कॉन्फ्रेंस में मौजूद रहे। उन्होंने आंतरिक सुरक्षा के साथ आतंकवाद, साइबर अपराध, तटीय सुरक्षा, नक्सलवाद, मादक पदार्थों की तस्करी के बदलते तरीकों व अन्य चुनौतियों पर अधिकारियों से मन्त्रणा करने के साथ अहम सुझाव भी दिए। इनसे निपटने के लिए की जा रही तैयारियों को भी परखा। सीमा पर प्रवास, देश को बदनाम करने के लिए विदेश से हो रही फंडिंग व इसमें गैर सरकारी संगठनों की भूमिका को लेकर भी विस्तार से चर्चा हुई। साथ ही राज्यों की पुलिस व जांच एजेंसियों के बीच आपसी समन्वय को बढ़ाने की बात गई। प्रधानमंत्री रविवार को तीन दिवसीय सम्मेलन का समापन करेंगे।

सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री के साथ मौजूद रहे एनएसए

सम्मेलन के दूसरे दिन प्रधानमंत्री के साथ केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल भी मौजूद रहे। निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार उन्हें शाम सात बजे राजभवन जाना था और उनका कार्यक्रम रात करीब आठ बजे पुलिस मुख्यालय में रात्रिभोज में शामिल होने का था। लेकिन, मोदी राजभवन नहीं गए। सूत्रों के मुताबिक उन्होंने पुलिस मुख्यालय के नौवें तल पर कुछ देर विश्राम किया और उसके बाद रात्रिभोज में शामिल हुए। वह रविवार सुबह 9.20 बजे सम्मेलन में फिर शामिल होंगे और समापन के बाद शाम चार बजे अमौसी एयरपोर्ट के लिए रवाना हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं…

उत्तरप्रदेश | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments