पानीपत सिविल अस्पताल में कोरोना घातक: ओपीडी में सेवाएं देने वाले डॉक्टरों समेत 95 प्रतिशत स्टाफ संक्रमित, अस्थाई तौर पर ओपीडी बंद

0
21

पानीपत31 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

पानीपत सिविल अस्पताल की ओपीडी।

हरियाणा के पानीपत जिले में कोरोना की तीसरी लहर जिलावासियों के साथ-साथ सरकारी अस्पताल के डॉक्टरों पर भी कहर बरपा रही है। आलम यह है कि सरकारी अस्पताल के रोजाना 2 से 3 डॉक्टर कोरोना संक्रमित हो रहे हैं। इसी बीच बड़ी खबर यह है कि ओपीडी ब्लॉक में कार्यरत 95 प्रतिशत स्टाफ कोरोना संक्रमित हो गया है। इनमें डॉक्टर, नर्स, फोर्थ क्लास समेत अन्य कर्मचारी शामिल हैं।

इन सभी के संक्रमित होने के कारण फिलहाल ओपीडी को स्टाफ की कमी और सुरक्षा के मद्देनजर अस्थाई तौर पर बंद कर दिया गया है। ओपीडी को अगले आदेश तक सुचारु न करने के आदेश पारित किए गए हैं। वहीं सिविल अस्पताल के अधिकारी डॉक्टर ओपीडी जैसी प्राथमिक जरुरत को चालू करने और डॉक्टरों की उपलब्धता को पूरी करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहे हैं। 2 दिन पहले जोड़-तोड़ कर ट्रेनी डॉक्टरों को मरीजों के इलाज का जिम्मा सौंपा गया है।

दो डॉक्टरों ने दिए स्वाब सैंपल
पानीपत में शुक्रवार को 281 सैंपलों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। इनमें एक साल से 17 साल के 26 बच्चे-किशोर शामिल हैं। सर्वाधिक 43 केस रिफाइनरी टाउनशिप में मिले हैं। जीटी रोड स्थित एक ग्रुप की दो कंपनियों में 21 केस मिले हैं। तीन सरकारी, एक निजी चिकित्सक की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव मिली है। इनके अलावा एल्डिको निवासी आयुष विभाग की डॉक्टर, सिविल अस्पताल के हड्डी रोग विशेषज्ञ, सरकारी अस्पताल की एक डॉक्टर, एक निजी प्रैक्टिशनर भी कोरोना संक्रमित मिले। 2 चिकित्सकों ने कोरोना जांच के लिए स्वाब सैंपल दिए हैं।

45 ने कोरोना को हराया
शुक्रवार को कोरोना से 45 रिकवर हुए। अब तक पॉजिटिव मिले 32 हजार 591 केसों में 30 हजार 454 रिकवर हो चुके हैं। सरकारी रिपोर्ट के मुताबिक, 642 की मौत हो चुकी है। हालांकि 12 जनवरी को खटीक बस्ती में मृत मिले बुजुर्ग की रिपोर्ट भी पाजिटिव आई थी। वह मौत इस संख्या में नहीं जुड़ी है।

ऐसे हैं 1295 एक्टिव केस

812 होम हाइसोलेशन में

22 निजी अस्पतालों में भर्ती

09 अन्य अस्पतालों में भर्ती

452 होम आइसोलेशन के लिए विचारणीय

खबरें और भी हैं…

चंडीगढ़ | दैनिक भास्कर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here