Monday, November 29, 2021
HomeStatesMaharashtraपरमबीर सिंह का बड़ा खुलासा: सुप्रीम कोर्ट में कहा- मैं नहीं हुआ...

परमबीर सिंह का बड़ा खुलासा: सुप्रीम कोर्ट में कहा- मैं नहीं हुआ देश से फरार, आदेश मिले तो 48 घंटे में CBI के सामने पेश हो सकता हूं

  • Hindi News
  • Local
  • Maharashtra
  • Parambir Singh Said In The Supreme Court I Did Not Abscond From The Country, I Will Appear Before The CBI In The Next 48 Hours

मुंबई12 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

स्टेट CID और ठाणे पुलिस ने परमबीर के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया है। सिंह के खिलाफ अब तक 5 मामले दर्ज हैं

वसूली के एक मामले में फरार घोषित किए गए मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर परमबीर सिंह 48 घंटों में सीबीआई के सामने पेश हो सकते हैं। यह जानकारी सोमवार को उनके वकील पुनीत बाली की ओर से सुप्रीम कोर्ट को दी गई है। पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख पर वसूली का आरोप लगाने वाले परमबीर के वकील ने सुप्रीम कोर्ट में बताया कि परमबीर को मुंबई में अपनी जान का खतरा है, इसलिए वे छिपे हुए हैं। यह भी कहा गया कि वे गायब नहीं हैं और देश में ही हैं।’ इस पर हैरानी जताते हुए अदालत ने कहा- हैरानी की बात है कि केवल मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त ही मुंबई में आकर रहने से डरते हैं।

अदालत ने परमबीर के तर्क को मानते हुए गिरफ्तारी से रोक वाली उनकी याचिक को सुनवाई के लिए स्वीकार कर लिया है। अब इस ममले की सुनवाई 6 दिसंबर को होगी। तब तक परमबीर को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है। अदालत ने इस संबंध में महाराष्ट्र सरकार और सीबीआई को एक नोटिस भी जारी किया है।

मेरे पास DGP का एक ऑडियो टेप भी मौजूद
परमबीर सिंह के वकीलों ने अदालत में कहा, “मेरे पास पूर्व गृहमंत्री के खिलाफ शिकायत वापस लेने के लिए डीजीपी का एक ऑडियो टेप है। वे मुझे धमकी भी दे रहे हैं। अगर शिकायत और मुकदमा वापस नहीं लिया गया, तो मुझे कई आरोपों में फंसाने की धमकी दी जा रही है।”

सुप्रीम कोर्ट में पेश की गई फोन पर हुई बात की ट्रांसक्रिप्ट
आज सुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट की बेंच ने पूछा कि फोन पर जो बातें हुईं उसकी ट्रांसक्रिप्ट कहां है? फिर वकील पुनीत बाली ने ट्रांसक्रिप्ट पेश की। पुनीत बाली ने कहा कि मेरे मुवक्किल को किस तरह से धमकियां दी गई हैं। ये मैं स्पष्ट करता हू्ं। एक के बाद एक उनके खिलाफ 6 एफआईआर दर्ज की गईं। अपने कार्यकाल के दौरान जिन लोगों के खिलाफ उन्होंने एक्शन लिया था उन्होंने ही एफआईआर दर्ज करवाई हैं।

चांदीवाल आयोग के सामने पेश हुए वझे
परमबीर के देशमुख पर लगाए आरोप के बाद राज्य सरकार द्वारा गठित चांदीवाल आयोग के सामने बर्खास्त मुंबई पुलिस अधिकारी सचिन वझे पेश हुए। उन्होंने समिति को बताता है कि वह इस मामले में सिर्फ एक छोटा मोहरा है। उन्होंने समिति से कहा कि उन्हें उन पर भरोसा है। कल वझे से समिति के अध्यक्ष पूछताछ करेंगे।

मुंबई की कोर्ट ने किया था भगोड़ा घोषित

इससे पहले मुंबई की कोर्ट ने परमबीर सिंह को भगोड़ा अपराधी घोषित करने की अनुमति दे दी थी, जिसके बाद अब मुंबई पुलिस उन्हें वांछित आरोपी घोषित कर सकती है और मीडिया सहित सभी संभावित स्थानों पर भगोड़ा घोषित करने की प्रक्रिया शुरू कर सकती है। नियम के अनुसार यदि वो 30 दिनों में कानून के सामने नहीं आते हैं, तो मुंबई पुलिस उनकी संपत्तियों को कुर्क करने की प्रक्रिया शुरू कर सकेगी।

कई बार चंडीगढ़ गई पुलिस की टीम

इससे पहले गृह विभाग ने परमबीर के गायब रहने की जानकारी इंटेलिजेंस ब्यूरो को भी दे दी थी। गौरतलब है कि परमबीर मई के महीने से स्वास्थ्य कारणों से छुट्टी पर जाने के बाद से ही लापता हैं। गृह विभाग ने सिंह को उनके चंडीगढ़ स्थित आवास पर कई पत्र भेजे और उनके ठिकाने के बारे में पूछताछ भी की गई, लेकिन कोई जवाब नहीं मिला।

पिछले महीने, गृह मंत्री दिलीप वालसे पाटिल ने कहा था कि वे IPS अधिकारी के खिलाफ कार्रवाई करने के लिए अखिल भारतीय सेवा (आचरण) नियमों के प्रावधानों को देख रहे हैं।

ठाणे पुलिस ने जारी किया था लुकआउट नोटिस

मुंबई की ठाणे पुलिस ने जुलाई में परमबीर सिंह के खिलाफ लुकआउट नोटिस जारी किया था। वह पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ उनके द्वारा भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के लिए प्रदेश सरकार द्वारा गठित चांदीवाल आयोग के सामने पेश होने में बार-बार विफल रहे हैं। जिसके बाद पहले उनके खिलाफ 5, फिर 25 और फिर 50 हजार का जुर्माना लगाया था। इसके बावजूद जब परमबीर पेश नहीं हुए तो उनके खिलाफ जमानती वारंट जारी हुआ था।

परमबीर के खिलाफ जांच कर रही है SIT

सरकार के गृह विभाग ने परमबीर सिंह के खिलाफ लगे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के लिए 7 सदस्यीय SIT टीम गठित की थी। इस टीम की अध्यक्षता DCP स्तर के अधिकारी कर रहे हैं। विमल अग्रवाल नाम के व्यापारी के खिलाफ जुहू पुलिस स्टेशन में दर्ज मकोका के केस की जांच भी SIT की टीम करेगी। परमबीर के कमिश्नर रहने के दौरान विमल अग्रवाल पर छोटा शकील से संबंध होने का आरोप लगाते हुए मकोका का केस दर्ज हुआ था।

परमबीर के खिलाफ दर्ज हैं 5 केस

स्टेट CID और ठाणे पुलिस ने परमबीर के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर जारी किया है। सिंह के खिलाफ अब तक 5 मामले दर्ज हैं, जिनमें से एक की जांच मुंबई, एक की ठाणे और तीन मामलों की जांच स्टेट CID कर रही है।

खबरें और भी हैं…

महाराष्ट्र | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments