Monday, November 29, 2021
HomeStatesPunjabजीएसटी घोटाला: 3 राज्यों में 18 फर्जी फर्में बनाई जाली बिल से...

जीएसटी घोटाला: 3 राज्यों में 18 फर्जी फर्में बनाई जाली बिल से 13.78 करोड़ ठगे, जीजा साले समेत 6 नामजद

लुधियाना21 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

फाइल फोटो

  • जांच अफसर के अनुसार आरोपियों द्वारा पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में 18 फर्जी फर्में बना रखी थी
  • उसने बताया कि आरोपी की फर्मों पर न तो कोई मशीनरी थी और न ही कोई ट्रांसपोर्टेशन होती थी

तीन स्टेट में 18 फर्जी व डमी फर्में बनाकर जीजा-साला समेत 6 लोगों ने 13.78 करोड़ का जीएसटी घोटाला किया। थाना पीएयू की पुलिस ने प्रिंसिपल कमिश्नर सीजीएसटी की शिकायत पर नरिंदर चुघ, अमर सग्गड़, राम बिलास यादव, सतीश शर्मा, रोहित कुमार गुप्ता और अंकुर गर्ग के खिलाफ मामला दर्ज किया है। एएसआई दीदार सिंह ने बताया कि आरोपी नरिंदर चुघ मुख्य आरोपी है।

जबकि अमन सग्गड़ उसका साला है। वहीं सतीश शर्मा द्वारा नरिंदर का अकाउंट, रोहित गुप्ता द्वारा उसके सभी बैंक खातों को ऑपरेट करने, अंकुर गर्ग चार्टेंड अकाउंटेंट, अमन सग्गड़ द्वारा सभी बैंक खातों का हिसाब देखा जाता था। जबकि राम बिलास यादव नरिंदर का वर्कर है।

सिर्फ दस्तावेजों में दिखाया जाता था कारोबार

जांच अफसर के अनुसार आरोपियों द्वारा पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में 18 फर्जी फर्में बना रखी थी। जिसमें से 12 फर्म पंजाब में थी। वह सिर्फ दस्तावेजों में माल बेचने का हिसाब दिखाया जाता था। जबकि उसकी एवज में 8.97 करोड़ रुपए का इनपुट टैक्स क्रेडिट और 4.80 करोड़ रुपए के अन्य जीएसटी फंड लेकर घोटाला कर लिया गया। आरोपी राम बिलास यादव ने विभागीय पूछताछ में बताया कि वह आरोपी के साथ एआरवी एक्जीम और एमस अपेयरेस में पार्टनर है। उसने बताया कि आरोपी की फर्मों पर न तो कोई मशीनरी थी और न ही कोई ट्रांसपोर्टेशन होती थी।

नरिंदर चुघ द्वारा अपने वर्करों के पैन कार्ड व आईडी प्रूफ ले उनके हस्ताक्षर कर उनके नाम पर फर्में बना रखी थी। जबकि वह सभी जगह वर्कर के नंबर के साथ अपना नंबर देता था। जिसके बाद खुद सारा कारोबार कंट्रोल करता था। नरिंदर द्वारा सभी वर्करों को फर्म व उसके संबंधी कोई भी मैसेज सेव न रखने के सख्त आदेश थे। जबकि वह सभी के साथ सिर्फ व्हॉट्सएप कॉल के जरिए ही बात करता था। वहीं सीए अंकुर गर्ग ने पूछताछ में बताया कि वह जीएसटी संबंधित कामों को देखता था। जिसके बदले उसे 50 हजार रुपए महीना सैलरी मिलती थी। जबकि उसने कई फर्में अपने बेटे व रिश्तेदारों के नाम पर भी खोल रखी थी।

खबरें और भी हैं…

पंजाब | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments