Sunday, December 5, 2021
HomeStatesChhattisgarhछग के जंगल में बेहोश पड़े मिले 7 हाथी: गांव में तोड़फोड़...

छग के जंगल में बेहोश पड़े मिले 7 हाथी: गांव में तोड़फोड़ कर जंगल की तरफ निकला था झुंड, इनमें से कुछ हाथियों के कीटनाशक पीने की आशंका

सूरजपुर2 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

सूरजपुर के जंगल में 7 हाथी बेहोश पड़े मिले। इनका इलाज किया जा रहा है।

छत्तीसगढ़ के सूरजपुर जिले के जंगल में 7 हाथी बेहोश पड़े मिले। इनमें से 3 की हालत गंभीर बताई गई है। बताया गया है कि जिले के शिव बहरा गांव में रविवार रात को 30 हाथियों का झुंड पहुंचा था। इसी दल में ये 7 हाथी शामिल थे। लोगों को इस बात का पता तब चला है, जब ग्रामीणों ने सोमवार सुबह इन हाथियों को पड़ा देखा, जिसके बाद वन विभाग की टीम को सूचना दी गई है।

जानकारी के मुताबिक, रविवार रात को ओडगी ब्लॉक के शिव बहरा गांव में 30 हाथियों का झुंड पहुंचा था। यहां हाथियों ने कई ग्रामीणों के घर को नुकसान पहुंचाया है। साथ ही कई ग्रामीणों के घर में रखे राशन को भी खा लिया। ग्रामीण आशंका जता रहे हैं कि हाथियों ने घर में रखा कीटनाशक भी पी लिया है, जिसकी वजह से इनकी हालत बिगड़ी है।

बेहोशी की हालत में हाथी बार-बार उठने का प्रयास करता रहा।

बेहोशी की हालत में हाथी बार-बार उठने का प्रयास करता रहा।

ग्रामीणों ने बताया कि सोमवार सुबह वह जंगल की ओर गए थे, तभी उन्होंने देखा कि करीब 7 हाथी जंगल में जमीन पर पड़े हैं। इनमें से कुछ होश में थे लेकिन वह उठ भी नहीं पा रहे थे। कुछ हाथी चिल्ला भी रहे थे, जिसके चलते हम उनके पास नहीं जा सके। कई घंटों तक वह जमीन पर ही पड़े रहे। वन विभाग को इस बात की सूचना ग्रामीणों ने दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई है कि उन्होंने घर पर खेत में डालने वाले कई तरह के कीटनाशक रखे हुए हैं। संभावना है कि हाथियों ने राशन के साथ उसे भी पी लिया हो।

आस-पास के लोगों ने हाथियों की तस्वीर कैमरे में कैद की है।

आस-पास के लोगों ने हाथियों की तस्वीर कैमरे में कैद की है।

खबर लगने के बाद वन विभाग की टीम और डॉक्टर्स मौके पर पहुंचे हैं। पता चला है कि 3 हाथियों की हालत गंभीर है। वन विभाग ने किसी तरह से 4 हाथियों को जमीन से उठा लिया है। वहीं 3 अन्य को इंजेक्शन और सलाइन के जरिए दवाएं दी जा रही हैं। फिलहाल वन विभाग की ओर से अभी कोई ज्यादा जानकारी नहीं मिली है। झुंड के बाकी हाथी भी आसपास के जंगल में ही हैं।

खबरें और भी हैं…

छत्तीसगढ़ | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments