Breaking News
DreamHost

करसोग में गरीब परिवार दो सालों से लगाए बैठे हैं आस, नहीं मिला अभी 3714 लोगों को आवास, पुराने घर टूटने लगे, लकड़ियां भी गली

  • Hindi News
  • Local
  • Himachal
  • Shimla
  • Poor Families Have Been Sitting In Karsog For Two Years, Not Yet Found 3714 Housing, Old Houses Broken Down, Even The Streets

करसोग6 दिन पहले

  • कॉपी लिंक
  • अक्टूबर 2018 में लाभार्थियों के चयन का सर्वे पूरा हो गया था लेकिन मकान अाज भी नहीं मिले

(रश्मिराज भारद्वाज) जिला मंडी के करसोग में गरीब परिवारों के लिए घर एक सपना बनकर रह गया है। उपमंडल में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत गरीबों को आशियाना देने के पंचायतों से प्रस्ताव पारित करके भेजे गए थे, अक्टूबर 2018 में लाभार्थियों के चयन के लिए सर्वे का कार्य भी पूरा हो गया था। इसके बाद से लोगों में जल्द ही मकान मिलने की आस जगी थी, लेकिन दो साल का समय बीतने पर भी प्रधानमंत्री आवास योजना फाइल से निकल कर धरातल पर नजर नहीं आ रही है।

ऐसे में ग्रामीणों का छत नसीब होने का सपना अब टूटने लगा है। स्थिति ये है कि बहुत से लोगों के मकानों की हालत काफी खस्ता हो गई है। वर्षों पहले तैयार किए गए पत्थर और मिट्टी के कच्चे मकानों में लगी लकड़ियां सड़ गई हैं। जिस कारण छत पर लगे पत्थर के स्लेट अब गिरने लगे हैं। ऐसे में बारिश होने पर पानी कमरों में टपक रहा है।

जिससे लोगों का घर के अंदर रखा गया सामान खराब हो रहा है। यही नहीं छोटे मकान होने के कारण संयुक्त परिवार का दो से तीन कमरों में गुजरा भी नहीं हो रहा है। ऐसे में प्रधानमंत्री आवास योजना में मकान न मिलने से लोगों की परेशानियां बढ़ गई। लोगों ने सरकार से जल्द से जल्द मकान देने की गुहार लगाई है। बता दें कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत उपमंडल की 54 पंचायतों से 3714 मकानों के प्रस्ताव सरकार को भेजे गए हैं। ऐसे में आखिरी इतने कम समय मे 2022 तक कैसे गरीबों के घर का सपना पूरा होगा, ये एक बड़ा सवाल है। कांडी सपनोट पंचायत की प्रीति शर्मा ने बताया कि हमारा परिवार बीपीएल से है। मकान बहुत पुराना है, जिससे छत पर लगे लकड़ी सड़ गए हैं और बारिश का पानी कमरों में टपकता है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत दो साल पहले मकान देने का भरोसा दिया गया था। उन्होंने सरकार से जल्द से जल्द मकान देने की मांग की है। ग्राम पंचायत मैहरन के जगतराम का कहना है कि हमारी पंचायत में दो साल पहले मकान के लिए सर्वे हुआ था, लेकिन अभी तक कोई मकान नहीं मिला है। हमारा 13 सदस्यों का परिवार है, जिनका तीन कमरों में गुजारा नहीं होता है। सरकार कोई मकान नहीं दे रही है। उन्होंने कहा कि आखिर सरकार कब गरीबों को मकान देगी? नाग ककनो गांव के 82 वर्षीय बजुर्ग भगतराम का कहना है कि मेरा मकान बहुत पुराना है, जो अब गिरने वाला है। घर मे रहते हुए रात को डर लगता है और नींद भी नहीं आती है। उन्होंने सरकार से उनके जीते जी मकान दिए जाने की गुहार लगाई है। वहीं विकासखंड करसोग के एसईबीपीओ महेश कश्यप का कहना है कि वर्ष 2018 में प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सर्वे किया गया था। इसकी जियो टैगिंग का कार्य पूरा हो चुका है। अब पंचायतों से पात्र लाभार्थियों की सूची मांगी गई है। उन्होंने कहा कि पंचायतों से प्रस्ताव प्राप्त होने के बाद अंतिम सूची पर आगामी आदेशानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।


Dainik Bhaskar

Free WhoisGuard with Every Domain Purchase at Namecheap

About rnewsworld

Check Also

हिमाचल चंबा-तीसा रोड पर खाई में कार गिरने के बाद आग लगी, हादसे में मां-बेटे समेत चार की मौत

Hindi News Local Himachal Fire Breaks Out After Car Falls Into Ditch On Himachal Chamba …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bulletproof your Domain for $4.88 a year!