Breaking News

आ चुकी है तीसरी लहर: कमरे में 50 लोग हों और उनमें से एक ओमिकॉन हो तो सभी लोग हो सकते हैं संक्रमित, लापरवाही न बरतें: पद्मश्री डॉ. तेजस पटेल

  • Hindi News
  • Local
  • Gujarat
  • Vaccination Of Children Under 15 Will Also Begin Soon; The Third Wave Will End In Two Months: Padma Shri Dr. Tejas Patel

अहमदाबाद34 मिनट पहलेलेखक: तन्हा पाठक पटेल

  • कॉपी लिंक

कोरोना के मामले लगातार बढ़ते जा रहे हैं। देश में 9 महीने में पहली बार कोरोना के मामले 1 लाख के पार पहुंचे हैं। वहीं, गुजरात में भी 6 जनवरी को एक ही दिन में कोरोना के करीब 4000 मामले सामने आए। इसमें दक्षिण अफ्रीका से फैले कोरोना वेरिएंट का ओमिक्रॉन वेरिएंट भी शामिल है। जैसा कि सभी जानते हैं कि ओमिक्रॉन के लक्षण बहुत सामान्य हैं और घातक नहीं हैं, लेकिन इसके विस्तार से डरना भी बहुत जरूरी है।

कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए भास्कर डिजिटल ने दिग्गज कार्डियोलॉजिस्ट और गुजरात कोरोना टास्क फोर्स के सदस्य पद्मश्री डॉ. तेजस पटेल से बातचीत की। पहली और दूसरी लहर के दौरान डॉ. तेजस पटेल का
मार्गदर्शन लोगों के लिए बहुत उपयोगी रहा था। अब जब कोरोना की तीसरी लहर शुरू हो गई है तो सभी के मन में कई तरह के सवाल उठ रहे हैं। इन सवालों के जवाब डॉ. तेजस पटेल ने दिए हैं। प्रस्तुत हैं उनसे
बातचीत के प्रमुख अंश…

भास्कर : अचानक से कोरोना के मामले बढ़ने की क्या वजह है?
डॉ. तेजस पटेल : कोरोना की हर लहर इसी तरह से आई है। मतलब कोरोना की पहली और दूसरी लहर भी दुनिया के कुछ देशों में पहले आई और फिर भारत में पहुंची। ओमिक्रॉन के बाद देश में कोरोना की तीसरी लहर आ गई
है। ओमिक्रॉन बहुत संक्रामक है। अगर एक कमरे में 50 लोग बैठे हैं और उनमें से एक में ओमिक्रॉन से ग्रसित है तो वह सभी को संक्रमित कर सकता है। हालांकि, राहत वाली बात यह है कि यह पहली और दूसरी लहर की तरह
घातक नहीं है। इसके अलावा, हमारे यहां बड़े पैमाने पर टीकाकरण हो चुका है। इसलिए जिन लोगों ने दो डोज ली हैं, उन्हें ओमिक्रॉन से घबराने की जरूरत नहीं है, लेकिन सावधान रहने की जरूरत तो है। ओमिक्रॉन वेरिएंट उन
लोगों को संक्रमित करने में भी सक्षम है, जिन्हें अभी तक कोरोना नहीं हुआ है। ओमिक्रॉन वैरिएंट के बारे में एक बात और महत्वपूर्ण है कि इससे लोगों की प्रतिरक्षा प्रणाली काफी बेहतर हो सकती है और फिर वायरस एक
सामान्य सर्दी जैसा वायरस बनकर रह जाएगा।

जनवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह में कोरोना की तीसरी लहर अपने चरम पर होगी : डॉ. तेजस पटेल।

जनवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह में कोरोना की तीसरी लहर अपने चरम पर होगी : डॉ. तेजस पटेल।

भास्कर : कोरोना की तीसरी लहर का क्या होगा हाल?
डॉ. तेजस पटेल : जिस तेजी से मामले बढ़ रहे हैं, उसे देखते हुए कहा जा सकता है कि तीसरी लहर आ चुकी है। इस लहर का शिखर भी होगा, लेकिन जो भी लहर आई है वह खत्म भी हुई है। दूसरी लहर हमारे लिए बहुत
दर्दनाक थी। लेकिन, ओमिक्रॉन के अलावा कोई खराब म्यूटेशन नहीं आया तो ओमिक्रॉन के मामले तो बढ़ सकते हैं, लेकिन बहुत कम लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता होगी और मृत्यु दर कम रहेगी।

भास्कर : कब चरम पर होगी तीसरी लहर?
डॉ. तेजस पटेल : जैसे-जैसे मामलों की संख्या बढ़ती जा रही है, ऐसा लग रहा है कि जनवरी के तीसरे या चौथे सप्ताह में कोरोना की तीसरी लहर अपने चरम पर होगी।

भास्कर : दूसरी लहर जैसे हालात पैदा होने की संभावना है?
डॉ. तेजस पटेल : वायरस के पैटर्न बदल रहे हैं, वेरिएंट नए हैं और जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग संक्रमित हो रहे हैं, पूरी सोसायटी हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रही है। इसलिए तीसरी लहर में मरने वालों की संख्या दूसरी लहर
की तुलना में बढ़ने की संभावना बहुत कम है, इसलिए दूसरी लहर जैसे हालात पैदा होने की संभावना नहीं है।

भास्कर : तीसरी लहर में ओमिक्रॉन से युवाओं या बच्चों के अधिक संक्रमित होने की संभावना है?
डॉ. तेजस पटेल : जिन लोगों का टीकाकरण नहीं हुआ है, उनमें संक्रमण होने की संभावना अधिक है। लेकिन, बच्चों में भी अब टीकाकरण शुरू हो गया है तो हालात पेचीदा नहीं होंगे। लेकिन इस समय को-मोर्बिड रोगियों को अधिक सावधान रहने की जरूरत है। हालांकि, ओमिक्रॉन बहुत हल्के प्रारूप में है और इसके लक्षण सामान्य हैं। चौथे-पांचवें दिन कई रोगी निगेटिव हो रहे हैं। लेकिन, फिर भी हमें सावधान रहने की जरूरत है कि हम भीड़ न लगाएं और कोरोना गाइडलाइन का पालन करें।

जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग संक्रमित हो रहे हैं, पूरी सोसायटी हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रही है : डॉ. तेजस पटेल।

जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग संक्रमित हो रहे हैं, पूरी सोसायटी हर्ड इम्युनिटी की ओर बढ़ रही है : डॉ. तेजस पटेल।

भास्कर : 2-14 साल के बच्चों के टीकाकरण की योजना?
डॉ. तेजस पटेल : विदेशों में 15 साल से कम उम्र के बच्चों को टीका लगाया जा रहा है। वैक्सीनेशन के दिशा-निर्देश आईसीएमआर सदस्यों द्वारा निर्धारित किए जाते हैं। भारत में भी कुछ शर्तों को देखते हुए लगता है कि जल्द ही 15 साल से कम उम्र के बच्चों में टीकाकरण शुरू कर दिया जाएगा।

भास्कर : डॉक्टर कह रहे हैं कि ओमिक्रॉन से ही महामारी खत्म होगी, यह कहां तक ​​सच है?
डॉ. तेजस पटेल : जैसे-जैसे अधिक से अधिक लोग ओमिक्रॉन के हल्के रूप से संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन उन्हें अधिक समस्या नहीं हो रही तो इससे लोगों में एंटीबॉडी उत्पन्न होती है और टी-शेल इम्युनिटी भी काम करने लगती है। उस स्थिति में, वायरस सामान्य इन्फ्लूएंजा वायरस की तरह हो जाता है। अधिकांश वायरस ऐसे होते हैं, जो कभी खत्म नहीं होते। मसलन किसी न किसी रूप में मौजूद रहते हैं। चेचक और पोलियो को ही देख लीजिए, जो आज भी मौजूद हैं। इसलिए हमें इस वायरस के साथ भी जीना सीखना होगा।

भास्कर : क्या यह माना जा सकता है कि अब ज्यादातर मामले ओमिक्रॉन के ही आएंगे?
डॉ. तेजस पटेल : जैसे-जैसे मरीज अब तेजी से ठीक हो रहे हैं, ऐसा लगता है कि अब जो नए मामले सामने आ रहे हैं उनमें से ज्यादातर ओमिक्रॉन के ही हैं और आगे भी होंगे।

भास्कर : ओमिक्रॉन से बचने के लिए क्या करना चाहिए? रोकथाम के लिए कौन सी दवा लेनी चाहिए?
डॉ. तेजस पटेल : अब तक जो हम करते आए हैं, आगे भी हमें वही करना है। ओमिक्रॉन से बचने के लिए मास्क पहनना, हाथों को सैनेटाइज रखना और सामाजिक दूरी बनाए रखना जरूरी है। भीड़ न लगे, छोटी जगहों पर बड़ी
संख्या में लोग बिल्कुल भी जमा न हों।

भास्कर : ऐसी खबरें हैं कि ओमिक्रॉन और डेल्टा मिलकर डोमिक्रॉन को फैला सकते हैं?
डॉ. तेजस पटेल : डोमिक्रॉन नाम का कोई वेरिएंट नहीं है। इससे अभी डरने की जरूरत नहीं है।

भास्कर : ओमिक्रॉन के खिलाफ कोवीशील्ड और को-वैक्सीन कितनी प्रभावी हैं?
डॉ. तेजस पटेल : दुनिया भर में सरकार की नीति है कि अगर आप कोवीशील्ड की दो खुराक लेते हैं तो आपको बूस्टर डोज कोवीशील्ड मिलता है और अगर आप को-वैक्सीन की दो खुराक लेते हैं तो आपको बूस्टर डोज
को-वैक्सीन का ही मिलता है। कुछ विदेशी आंकड़े हैं कहते हैं कि अगर आप टीके की पहली दो खुराक की तुलना में अलग-अलग टीके की तीसरी खुराक लेते हैं, तो प्रतिरक्षा बेहतर होगी। मेरा मानना ​​है कि हर टीका समान रूप से प्रभावी है।

भास्कर : कब खत्म होगी तीसरी लहर?
डॉ. तेजस पटेल : वायरस जितनी तेजी से फैलता है, उसका पीक उतनी ही तेजी से आता है और फिर उतनी ही तेजी से मामले घटने लगते हैं। इसलिए तीसरी लहर के दो महीने में खत्म होने की उम्मीद है।

खबरें और भी हैं…

गुजरात | दैनिक भास्कर

Check Also

हर्ष सांघवी Vs नितिन पटेल: अमेरिका में 4 गुजरातियों की मौत पर नितिन पटेल ने कहा – यहां मौके नहीं, गृह राज्य मंत्री बोले- गुजरात में सबसे ज्यादा मौके

Hindi News Local Gujarat On The Death Of 4 Gujaratis In America, Nitin Patel Said …

बच्चे का अपहरण: सूरत में दो वर्षीय बच्चे का अपहरण, बुर्काधारी महिला की तलाश, पुलिस को बच्चे की मां की बातों पर संदेह

Hindi News Local Gujarat Kidnapping Of Two year old Child In Surat, Looking For A …

इलेक्ट्रिक बाइक का बढ़ता क्रेज: सूरत में बढ़ी इलेक्ट्रिक बाइक की इतनी डिमांड कि शहर से पूरा स्टॉक ही खत्म, अब दो महीने की चल रही वेटिंग

Hindi News Local Gujarat There Is So Much Demand For Electric Bikes In Surat That …

कोरोना का पीक गुजरा!: पिछले 5 दिन से लगातार नए मरीज घट रहे, रिकवर बढ़ रहे; 3-4 दिन में तीसरी लहर से उबर जाएगा गुजरात

Hindi News Local Gujarat New Patients Are Decreasing Continuously For The Last 5 Days, Recoveries …

गुजरात में गणतन्त्र दिवस समारोह: वेरावल के सद्भावना स्टेडियम में मुख्यमंत्री भूपेंद्र पटेल ने फहराया तिरंगा, कोरोना के चलते सांस्कृतिक कार्यक्रम रद्द

Hindi News Local Gujarat Chief Minister Bhupendra Patel Hoisted The Tricolor At Veraval’s Sadbhavna Stadium, …

Leave a Reply

Your email address will not be published.