Monday, November 29, 2021
HomeNationalआज का इतिहास: आतंकी हमलों से ठहर गई थी दौड़ती-भागती मुंबई, 60...

आज का इतिहास: आतंकी हमलों से ठहर गई थी दौड़ती-भागती मुंबई, 60 घंटे तक दहशत के साए में रहा था देश

  • Hindi News
  • National
  • Mumbai Attacks; Today History Aaj Ka Itihas 26 November | 2008 Mumbai Terrorist Attacks

39 मिनट पहले

  • कॉपी लिंक

26 नवंबर 2008 की शाम। मुंबई हमेशा की तरह शान से दौड़-भाग रही थी। शहर के लोग जानते भी नहीं थे कि 10 लोग हथियार लेकर अरब सागर से होते हुए उन तक पहुंच रहे हैं। इन 10 आतंकियों के बैग में 10 एके-47, 10 पिस्टल, 80 ग्रेनेड, 2 हजार गोलियां, 24 मैगजीन, 10 मोबाइल फोन, विस्फोटक और टाइमर्स रखे थे।

इतना साजौ-सामान मुंबई में तबाही मचाने के लिए काफी था। उनके हैंडलर बार-बार उनसे कह रहे थे, ‘तुम्हारे चेहरे पर चांद की तरह नूर दिखाई देगा। तुम्हारे शरीर से गुलाब की महक आएगी और तुम सीधे जन्नत जाओगे।’

उस रात ठीक 8 बजकर 20 मिनट पर अजमल कसाब और उसके 9 साथियों ने मुंबई में कदम रखा। उनसे कहा गया था, ‘तुम्हारा सबसे बड़ा हथियार है…उन्हें अचरज में डालना।’ उन्हें सिखाया गया था कैसे टैक्सियों में टाइम बम लगाने हैं, ताकि वो पूरे शहर में थोड़ी-थोड़ी देर पर फटें।

मुंबई हमलों का एकमात्र जिंदा पकड़ा गया आतंकी अजमल कसाब। कसाब को 21 नवंबर 2012 को फांसी दी गई।

मुंबई हमलों का एकमात्र जिंदा पकड़ा गया आतंकी अजमल कसाब। कसाब को 21 नवंबर 2012 को फांसी दी गई।

मुंबई उतरने के बाद आतंकी दो-दो के ग्रुप में बंट गए और अलग-अलग रास्तों पर चल पड़े। सबसे पहला हमला रात 9 बजकर 43 मिनट पर लियोपॉल्ड कैफे के बाहर हुआ। आतंकी जिस टैक्सी से आए थे, उसी में उन्होंने टाइम बम लगा दिया था। टैक्सी रुकी ही थी कि बम फट गया।

ड्राइवर और टैक्सी में बैठी दो महिलाओं की तुरंत मौत हो गई। जब लोग वहां से भागे, तो दो आतंकियों ने सड़क से ही एके-47 से फायरिंग शुरू कर दी। इस हमले में 9 लोग मारे गए।

सबसे ज्यादा 58 लोग CST पर मारे गए

पहले हमले के ठीक 2 मिनट बाद 9 बजकर 45 मिनट पर मुंबई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनस (CST) पर हमला हुआ। इसे दो आतंकियों अजमल कसाब और इस्माइल खान ने अंजाम दिया था। कसाब लोगों पर गोलियां चला रहा था, जबकि इस्माइल का काम वहां से भाग रहे लोगों पर ग्रेनेड फेंकने का था। इस हमले में सबसे ज्यादा 58 लोग मारे गए थे। उस रात किसी के लिए न रुकने वाली मुंबई ठहर सी गई थी।

CST पर हमले के बाद कसाब और इस्माइल वहां से कामा अस्पताल पहुंचे। ये एक चैरिटेबल अस्पताल है, जिसे 1880 में एक अमीर कारोबारी ने बनवाया था। उन्होंने घुसते ही चौकीदार को मारा। अस्पताल के बाहर आतंकियों से मुठभेड़ हुई, जिसमें उस समय के ATS चीफ हेमंत करकरे, मुंबई पुलिस के अशोक कामटे और विजय सालसकर मारे गए।

CST पर हमले के बाद का भयावह मंजर।

CST पर हमले के बाद का भयावह मंजर।

कसाब और इस्माइल के पीछे पुलिस पड़ चुकी थी। आतंकियों की कार पंक्चर भी हो गई। उसके बाद उन्होंने एक स्कोडा कार छीनी। पुलिस ने आगे बैरिकेडिंग कर रखी थी। कार बैरिकेडिंग से पहले रुकी भी। तभी पुलिसवालों को अपनी ओर आते हुए इस्माइल ने गोली चलाना शुरू कर दी। पुलिस ने भी गोली का जवाब गोली से दिया। पुलिस ने इस्माइल को मार दिया।

कसाब​ जिंदा पकड़ा गया। हालांकि, इस मुठभेड़ में पुलिस इंस्पेक्टर तुकाराम ओम्बले शहीद हो गए। उसी रात दो आतंकियों ने नरिमन हाउस को भी निशाना बनाया। यहां यहूदी पर्यटक अक्सर रुका करते थे। दोनों आतंकी बाद में मारे भी गए, लेकिन मरने से पहले उन्होंने 7 लोगों को भी मार दिया।

मुंबई के दो 5 स्टार होटलों पर हमला

उसी रात दो आतंकी ओबेरॉय होटल और 4 आतंकी ताज पैलेस होटल में घुसे। ताज में घुसते ही आतंकियों ने बैग जमीन पर रखे और उनमें से एके-47 निकालकर अंधाधुंध फायरिंग शुरू कर दी। ताज होटल पर हुए हमले के बाद ही मुंबई और दुनिया को पता चला कि कितना बड़ा आतंकी हमला हुआ है। दोनों आतंकी मारे तो गए, लेकिन तब तक उन्होंने 31 लोगों की जान भी ले ली थी।

ओबेरॉय होटल में भी दो आतंकी ढेर सारे गोला-बारूद के साथ घुसे। बताया जाता है कि हमले के वक्त होटल में 350 लोग मौजूद थे। NSG के कमांडों ने दोनों आतंकियों को मार गिराया। लेकिन तब तक 32 लोगों की जान जा चुकी थी।

26 नवंबर की रात से शुरू हुआ तांडव 29 नवंबर की सुबह खत्म हुआ

26 नवंबर की रात 9 बजकर 43 मिनट से शुरू हुआ आतंक का तांडव 29 नवंबर की सुबह 7 बजे खत्म हुआ। मौत का ये तांडव 60 घंटे तक चला। इस हमले में 166 लोग मारे गए थे। 9 आतंकियों को एनकाउंटर में मार दिया गया था। जबकि, एकमात्र आतंकी अजमल कसाब जिंदा पकड़ा गया। कसाब को 21 नवंबर 2012 को फांसी दे दी गई।

26 नवंबर के दिन को इतिहास में और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है…

2012: अरविंद केजरीवाल ने एक नए राजनैतिक दल आम आदमी पार्टी का गठन किया।

1996: मंगल ग्रह पर जीवन की संभावनाओं का पता लगाने के लिए अमेरिकी अंतरिक्ष एजेंसी नासा ने अंतरिक्ष यान ‘मार्स ग्लोबल सर्वेयर’ को अंतरिक्ष में भेजा था।

1984: इराक एवं अमेरिका ने कूटनीतिक संबंधों को पुन: स्थापित किया।

1949: संविधान सभा ने संविधान के मसौदे पर हस्ताक्षर किए।

1948: नेशनल कैडेट कोर की स्थापना हुई।

1932: महान क्रिकेटर डॉन ब्रैडमैन ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में दस हजार रन बनाए।

1921: आज प्रसिद्ध उद्योगपति और श्वेत क्रांति के जनक वर्गीज कुरियन का जन्म हुआ था।

1885: पहली बार उल्कापिंड की तस्वीर ली गई।

खबरें और भी हैं…

देश | दैनिक भास्कर

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular

Recent Comments