Breaking News
DreamHost

अस्थिमज्जा दान करने के लिए जन्मी बच्ची ने बचाई भाई की जान

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं किया है।

| Updated: 15 Oct 2020, 04:58:00 PM

अहमदाबाद, 15 अक्टूबर (भाषा) थैलेसेमिया से पीड़ित अपने भाई को अस्थिमज्जा दे कर उसकी जान बचाने के लक्ष्य से आईवीएफ की मदद से जन्मी एक साल की बच्ची अपने छह साल के भाई की जान बचाने में कामयाब रही है। काव्या नाम की इस बच्ची का जन्म साल भर पहले अहमदाबाद में ‘इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन’ (आईवीएफ) की मदद से ‘रक्षक सहोदर’ अवधारणा के तहत हुआ। डॉक्टरों ने बृहस्पतिवार को बताया कि इस साल मार्च में काव्या के अस्थिमज्जा का प्रतिरोपण उसके भाई अभिजीत सोलंकी को किया गया और अब उसे कोई खतरा नहीं है। दोनों बच्चे पूरी तरह स्वस्थ हैं। उन्होंने बताया

 

अहमदाबाद, 15 अक्टूबर (भाषा) थैलेसेमिया से पीड़ित अपने भाई को अस्थिमज्जा दे कर उसकी जान बचाने के लक्ष्य से आईवीएफ की मदद से जन्मी एक साल की बच्ची अपने छह साल के भाई की जान बचाने में कामयाब रही है। काव्या नाम की इस बच्ची का जन्म साल भर पहले अहमदाबाद में ‘इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन’ (आईवीएफ) की मदद से ‘रक्षक सहोदर’ अवधारणा के तहत हुआ। डॉक्टरों ने बृहस्पतिवार को बताया कि इस साल मार्च में काव्या के अस्थिमज्जा का प्रतिरोपण उसके भाई अभिजीत सोलंकी को किया गया और अब उसे कोई खतरा नहीं है। दोनों बच्चे पूरी तरह स्वस्थ हैं। उन्होंने बताया कि सहदेव सिंह सोलंकी और अल्पा सोलंकी की दूसरी संतान अभिजीत को थैलेसेमिया-मेजर की समस्या थी जिसमें मरीज को हर महीन खून चढ़ाना पड़ता है। थैलेसेमिया-मेजर के मरीजों को बार-बार खून चढ़ाने की जरूरत होती है और उनकी जीवन प्रत्याशा भी कम होती है। ऐसे में अभिजीत के इलाज के लिए उसके माता-पिता को उसका अस्थिमज्जा प्रतिरोपण करने का सुझाव दिया गया, लेकिन वे अपने बेटे के लिए, उसके अनुकूल एचएलए (ह्यूमन ल्यूकोसाइट एंटीजन) नहीं खोज सके। शहर के नोवा आईवीएफ क्लीनिक के मेडिकल निदेशक डॉक्टर मनीष बैंकर ने कहा, ‘‘प्रतिरोपण के लिए मैचिंग एचएलए दानदाता की अनुपलब्धता की स्थिति में हमने मैचिंग एचएलए वाले आईवीएफ का रास्ता अपनाया।’’ एचएलए टाइपिंग की यह प्रक्रिया ऐसे बच्चे के लिए गर्भाधान का स्थापित तरीका है जो गंभीर बीमारी से पीड़ित अपने सहोदर में प्रतिरोपण के लिए गर्भनाल का रक्त या विशेष स्टेम कोशिकाएं दान कर सकता है। बैंकर ने बताया, ‘‘थैलेसेमिया-मेजर के मरीजों के लिए एचएलए-समान (आईडेंटिकल) दानदाता से मिला अस्थिमज्जा प्रतिरोपण बेहतरीन विकल्प है। हमने इस चुनौती को स्वीकार करते हुए बड़े भाई की जीवन रक्षा के लिए स्वस्थ रक्षक सहोदर को तैयार किया।’’ आईवीएफ की मदद से अभिजीत की मां ने साल भर पहले स्वस्थ बच्ची काव्या को जन्म दिया, जिसका एचएलए उसके भाई से मैचिंग था। बैंकर ने बताया कि इस साल मार्च में जब काव्या का वजन जरुरत के अनुसार सही हो गया तो सीआईएमएस अस्पताल में उसके अस्थिमज्जा का अभिजीत में सफल प्रतिरोपण किया गया। उनका कहना है, ‘‘अब अभिजीत को कोई खतरा नहीं है और उसे खून चढ़ाने की जरूरत नहीं है।’’ बैंकर ने कहा, ‘‘भारत में यह पहला मामला है जब खास तौर से थैलेसेमिया-मेजर से ग्रस्त सहोदर की जान बचाने के लिए आईवीएफ की मदद से मैचिंग एचएलए वाले बच्चे को जन्म दिया गया हो।’’ अभिजीत के पिता ने अपने बेटे की जान बचाने के लिए बैंकर और डॉक्टरों को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा, ‘‘दोनों बच्चों को स्वस्थ्य देखकर मुझे खुशी हो रही है।’’

Navbharat Times News App: देश-दुनिया की खबरें, आपके शहर का हाल, एजुकेशन और बिज़नेस अपडेट्स, फिल्म और खेल की दुनिया की हलचल, वायरल न्यूज़ और धर्म-कर्म… पाएँ हिंदी की ताज़ा खबरें डाउनलोड करें NBT ऐप

लेटेस्ट न्यूज़ से अपडेट रहने के लिए NBT फेसबुक पेज लाइक करें

Web Title : girl born to donate bone marrow saved brother’s life
Hindi News from Navbharat Times, TIL Network

Get Ahmedabad News, Breaking news headlines about Ahmedabad crime, Ahmedabad politics and live updates on local Ahmedabad news. Browse Navbharat Times to get all latest news in Hindi.

Gujarat News: गुजरात न्यूज़, Gujarat Samachar, गुजरात समाचार, Gujarat News in Hindi, गुजरात खबरें , Latest Gujarat News, नवीनतम गुजरात समाचार | Navbharat Times

Free WhoisGuard with Every Domain Purchase at Namecheap

About rnewsworld

Check Also

गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन

डिसक्लेमर:यह आर्टिकल एजेंसी फीड से ऑटो-अपलोड हुआ है। इसे नवभारतटाइम्स.कॉम की टीम ने एडिट नहीं …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bulletproof your Domain for $4.88 a year!