Breaking News
DreamHost

अब शरद पवार ने प्रधानमंत्री को लिखा खत, कहा- राज्यपाल की भाषा पर हैरान, किसी नेता जैसा खत है; पहले राज्यपाल-सीएम में हुई थी चिट्ठीबाजी

मुंबई9 मिनट पहले

  • महाराष्ट्र में मंदिर ना खोले जाने के फैसले पर राज्यपाल की सीएम को चिट्ठी- दैवीय आदेश हुआ या अचानक सेक्युलर हो गए
  • मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने भी राज्यपाल को चिट्ठी लिखी, कहा- मुझे आपसे हिंदुत्ववादी होने का प्रमाण पत्र नहीं चाहिए

महाराष्ट्र में मंदिर ना खोले जाने पर मंगलवार को राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के बीच चिट्ठीबाजी होने के बाद अब राकांपा चीफ शरद पवार ने भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी है। उन्होंने राज्यपाल की चिट्ठी की भाषा पर हैरानी जाहिर की है। उन्होंने लिखा कि यह खत किसी राजनीतिक पार्टी के नेता द्वारा लिखा गया लगता है।

दरअसल, राज्यपाल ने उद्धव को चिट्ठी में लिखा था- यह विडंबना है कि एक तरफ सरकार ने बार और रेस्त्रां खोल दिए हैं, लेकिन मंदिर नहीं खोले गए। ऐसा न करने के लिए आपको दैवीय आदेश मिला या अचानक से सेक्युलर हो गए।

उद्धव ने राज्यपाल को दिया जवाब

राज्यपाल के इस पत्र पर उद्धव ने भी पलटवार किया। उन्होंने लिखा- जैसे तुरंत लॉकडाउन लगाना ठीक नहीं था, वैसे ही तुरंत ही इसे हटाना ठीक नहीं है। और हां, मैं हिंदुत्व को मानता हूं। मुझे आपसे हिंदुत्व के लिए सर्टिफिकेट नहीं चाहिए।

राज्यपाल का पत्र

koshyari letter 11 1602579652

सीएम ठाकरे का पलटवार

उद्धव ठाकरे ने राज्यपाल के इस जवाब में लिखा है कि महाराष्ट्र में धार्मिक स्थल खोलने की चर्चा के साथ कोरोना के बढ़ते मामलों का भी ध्यान रखना चाहिए। जो लोग हमारे राज्य की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाला कश्मीर (PoK) से करते हैं, उनका स्वागत करना मेरे हिंदुत्व में फिट नहीं बैठता। सिर्फ मंदिर खोलने से ही क्या हिंदुत्व साबित होगा?

उद्धव का राज्यपाल को लिखा जवाबी पत्र। उद्धव ने यह पत्र मराठी में लिखा है।

उद्धव का राज्यपाल को लिखा जवाबी पत्र। उद्धव ने यह पत्र मराठी में लिखा है।

‘हिंदुत्व हमारी आत्मा, कभी नहीं छोड़ेंगे’

मंदिर मुद्दे पर उद्धव से मातोश्री पर मिलने पहुंचे शिवसेना सांसद और प्रवक्ता संजय राउत ने कहा, ‘शिवसेना ने न कभी हिंदुत्व को नकारा है और न ही कभी भुलाया। हिंदुत्व शिवसेना के प्राण और आत्मा है। शिवसेना इसे कभी नहीं छोड़ सकती। जो लोग इस पर सवाल खड़े कर रहे हैं, उन्हें आत्मनिर्भर होकर आत्ममंथन करना चाहिए। क्या वे लोग हिंदुत्व का पालन कर रहे हैं? उद्धव ठाकरे के नेतृत्व में यह जो सरकार है, संविधान का पालन करके चल रही है। अगर हम संविधान का पालन कर रहे हैं तो यह किसी को अच्छा नहीं लग रहा। अगर आप मंदिर की तुलना बार खोले जाने से कर रहे हैं, तो ये गलत है।’

भाजपा का प्रदर्शन

राज्यभर के मंदिरों को खोलने के फैसले में सरकार द्वारा की जा रही देरी को लेकर महाराष्ट्र भर के धार्मिक नेता और श्रद्धालुओं ने शिवसेना की अगुवाई वाली महाविकास समिति (MVA) सरकार के खिलाफ अपना विरोध दर्ज कराने के लिए कुछ घंटों के लिए आज उपवास रखने का निर्णय लिया है।

मुंबई में सिद्धिविनायक मंदिर के बाहर प्रदर्शन करने पहुंचे भाजपा नेता प्रसाद लाड ने कहा, ‘हम मांग कर रहे हैं कि हमें सिद्धिविनायक मंदिर में प्रवेश करने दिया जाए। अगर वे हमें प्रवेश नहीं करने देते, तो हम मंदिर में घुसने का अपना रास्ता बनाएंगे। यह आंदोलन पूरे महाराष्ट्र में हो रहा है, क्योंकि हम चाहते हैं कि राज्य के सभी मंदिरों को फिर से खोल दिया जाए।’

कई भाजपा नेता हाथों में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करने पहुंचे थे।

कई भाजपा नेता हाथों में तख्तियां लेकर प्रदर्शन करने पहुंचे थे।

भाजपा की तरफ से यह भी कहा गया, ‘उद्धव सरकार ने बार और रेस्त्रां को शुरू करने की अनुमति दी है, लेकिन मंदिरों को फिर से खोलने का निर्णय नहीं ले रही है। जबकि लाखों लोग चाहते हैं कि मंदिर खुलें। हमारे कार्यकर्ता मंदिरों को खुलवाने के लिए उपवास करेंगे।’

Dainik Bhaskar

Free WhoisGuard with Every Domain Purchase at Namecheap

About rnewsworld

Check Also

13 साल की उम्र में सॉफ्टवेयर प्रोग्राम लिखने वाले बिल गेट्स का जन्मदिन; स्टैच्यू ऑफ लिबर्टी मिला

Hindi News National Today History For October 28th What Happened Today | Bill Gates Birthday: …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Bulletproof your Domain for $4.88 a year!